Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 187687
Date of publication : 5/6/2017 16:31
Hit : 538

४२ हज़ार फिलिस्तीनी शहीद और खामोश तमाशाई अरब के बे ग़ैरत हुक्मरान ।

२००८ में यह आंकड़ा एक ज़ायोनी के मुक़ाबले ६५ फिलिस्तीनियों की शहादत तक पहुँच गया ।

विलायत पोर्टल :
  प्राप्त जानकारी के अनुसार फिलिस्तीनी मोर्चा के जनरल सेक्रेटरी मुस्तफा बरगूसी ने कहा है कि १९६७ से अब तक कितने फिलिस्तीनी ज़ायोनी लोगों के हाथों शहीद हुए हैं इसकी कोई स्पष्ट जानकारी नहीं है लेकिन इस समय जो रिकॉर्ड उपलब्ध है उसके आधार पर भी ४२ हज़ार से अधिक फिलिस्तीनी ज़ायोनी अत्याचारों की भेंट चढ़ते हुए शहीद हो चुके हैं । उन्होंने बताय कि ग़ज़्ज़ा युद्ध में शहीद होने वाले ३८१२ लोगों में ९०० से अधिक बच्चे थे । मुस्तफा बरगूसी ने कहा कि २००० - २००५ के बीच १ ज़ायोनी के जवाब में ४ फिलिस्तीनी मारे जाते थे लेकिन २००६ में यह आंकड़ा हर २ ज़ायोनी के बदले ३० फिलिस्तीनी तथा २००७ में १ के बदले ४० हो गया । २००८ में यह आंकड़ा एक ज़ायोनी के मुक़ाबले ६५ फिलिस्तीनियों की शहादत तक पहुँच गया । बरगूसी ने कहा कि १९६७ से २०१४ तक ज़ायोनी अधिकारियों ने ८०० हज़ार लोगों को बंदी बनाया था जिस में ४०% युवक थे तथा १० हज़ार महिलाएं और ८ हज़ार से अधिक बच्चे थे । बरगूसी के अनुसार २०१४ में ग़ज़्ज़ा युद्ध में ज़ायोनी बमबारी के नतीजे में मरने वाले लोगों में ७०% से अधिक आम नागरिक थे ।
 .........................
अलआलम टीवी


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

अरब शासकों को ट्रम्प का आदेश, दमिश्क़ से संबंध सुधारो। इस्राईल के हमले नहीं रुके तो दमिश्क़ तल अवीव एयरपोर्ट को निशाना बनाने के लिए तैयार : बश्शार क़ुद्स को राजधानी बना कर अलग फ़िलिस्तीन राष्ट्र का गठन हो : चीन अय्याश सऊदी युवराज बिन सलमान ने माँ के बाद अब अपने भाई को बंदी बनाया। क़ासिम सुलेमानी के आदेश पर सीरिया ने इस्राईल पर मिसाइल दाग़े : ज़ायोनी मीडिया यूरोपीय यूनियन के ख़िलाफ़ बश्शार असद का बड़ा क़दम, राजनयिकों का विशेष वीज़ा किया रद्द। अमेरिकी सेना ने माना, इराक युद्ध का एकमात्र विजेता है ईरान । बर्नी सैंडर्स की मांग, सऊदी तानाशाही की नकेल कसे विश्व समुदाय । ईरान विरोधी बैठकों से कुछ हासिल नहीं, यादगारी तस्वीरें लेते रहे नेतन्याहू । हसन नसरुल्लाह का लाइव इंटरव्यू होगा प्रसारित,सऊदी इस्राईली मीडिया की हवा निकली । आले ख़लीफ़ा का यूटर्न , कभी भी दमिश्क़ विरोधी नहीं था बहरैन इदलिब , नुस्राह फ्रंट के ठिकानों पर रूस की भीषण बमबारी । हश्दुश शअबी की कड़ी चेतावनी, आग से न खेले तल अवीव,इस्राईल की ईंट से ईंट बजा देंगे । दमिश्क़ पर फिर हमला, ईरानी हित थे निशाने पर, जौलान हाइट्स पर सीरिया ने की जवाबी कार्रवाई । नहीं सुधर रहा इस्राईल, दमिश्क़ के उपनगरों पर फिर किया हमला।