Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 185959
Date of publication : 27/2/2017 19:51
Hit : 231

शैख़ ईसा क़ासिम के समर्थन में विशाल प्रदर्शन।

फरवरी २०११ से बहरैनी जनता राजशाही अत्याचारों के विरुद्ध शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं जिसे बहरैनी शासक निर्दयता से कुचलते रहे हैं

विलायत पोर्टल :
बहरैनी जनता ने रविवार की रात एक बार फिर अपने चहेते लीडर आयतुल्लाह शैख़ ईसा क़ासिम की आजीवन सुरक्षा का हलफ उठाते हुए विशाल प्रदर्शन किया।
अल दिया, अल क़दम, कराना, सहित अनेकों स्थानों पर आयोजित इन प्रदर्शनों में लोगों "यह जान फ़क़ीह पर क़ुर्बान" "अंतिम साँस तक शैख़ की सुरक्षा" जैसे नारे लगा रहे थे । प्रदर्शनकारियों ने शैख़ ईसा पर चलाये जा रहे मामलों की कड़ी निंदा की । दूसरी ओर अत्याचारी प्रशासन ने जो नामक क्षेत्र में बम ब्लास्ट की खबर दी है जिसमे ४ खलीफाई पुलिस जवानों के घायल होने की सूचना है । ज्ञात रहे कि फरवरी २०११ से बहरैनी जनता राजशाही अत्याचारों के विरुद्ध शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं जिसे बहरैनी शासक निर्दयता से कुचलते रहे हैं ।
 ......................
 अलआलम टीवी


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

ईरान को झुकाने की हसरत अपनी क़ब्रों में ले जाना : आईआरजीसी हिज़्बुल्लाह के साथ खड़ा है लेबनान का क्रिश्चियन समाज : इलियास मुर्र ओमान के आसमान में उड़ान भरेंगे इस्राईल के विमान ज़ायोनी आतंक, पोस्टर लगा कर दी फ़िलिस्तीनी राष्ट्रपति की हत्या की सुपारी । महिलाओं के अधिकार, इस्लाम और आधुनिक सभ्यता की निगाह में ईरान पर कोई प्रभाव नहीं ड़ाल पाएंगे अमेरिकी प्रतिबंध : स्ट्रैटफोर सऊदी हमलों की मार झेल रहे यमन में 2 करोड़ लोग भूख से प्रभावित,लाखों बच्चों की मौत अवैध राष्ट्र के गठन के 30 साल पहले से ज़ायोनी मूवमेंट के लिए काम कर रहे हैं आले सऊद : इस्राईली सांसद स्नूकर प्लेयर ने इस्राईली खिलाड़ी के साथ खेलने से किया इंकार हिज़्बुल्लाह के ख़िलाफ़ इस्राईल ने कोई क़दम उठाया तो पूरा मिडिल ईस्ट सुलग जाएगा : नेशनल इंटरेस्ट यूरोप ईरान के साथ वैज्ञानिक और आर्थिक सहयोग बढ़ाने को उत्सुक : जर्मनी अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे