Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 185839
Date of publication : 21/2/2017 18:19
Hit : 382

अमेरिका है आईएस का निर्माता और विश्व शांति के लिए ख़तराः ईरानी रक्षामंत्री

ईरान बैतुल मुक़द्दस की आज़ादी तक फिलिस्तीन का समर्थन जारी रखेगा फिलिस्तीन के बेगुनाह लोग पिछले ६० साल से ज़ायोनी अत्याचार से पीड़ित हैं ज़ायोनिस्ट इस क्षेत्र में अशांति का सबसे बड़ा कारण है ।


विलायत पोर्टल : रक्षामंत्री हुसैन देहक़ान ने मालिके अशतर प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय में आयोजित रक्षा संस्थान के राष्ट्रीय सम्मलेन को सम्बोधित करते हुए कि विश्व समुदाय का बढ़ता हुआ सैन्य बजट तेज़ी से उन्नत होती हुई तकनीक को देखते हुए हमे उन्नति एवं गुणवत्ता की ओर तेज़ी से क़दम बढ़ाने होंगे ताकि एक मज़बूत रक्षाप्रणाली का गठन हो सके जो हमारी शक्ति का प्रतीक एवं सम्भावित खतरे के समय हमारी जीत का कारण बने।
सरदार देहक़ान ने म्यूनिख में ज़ायोनी युद्धमंत्री और अमेरिकी राष्ट्रपति के सहायक द्वारा लगाए गए आरोपों के जवाब में कहा कि दुनिया जानती हैं आज मिडिल ईस्ट की अशांति के लिए दाइश और दूसरे आतंकी संगठन ज़िम्मेदार हैं और ट्रम्प अपनी चुनावी सभाओं में यह बात बोलते रहे हैं कि ओबामा प्रशासन ने दाइश का गठन किया है। विश्व समुदाय फैसला कर सकता है कि आतंक पीड़ित ईरान शांति व्यवस्था के लिए खतरा है या दाइश का गठन करने वाले ? उन्होंने ज़ायोनी सत्ता को चेताते हुए कहा कि ईरान के विरुद्ध निंदनीय गुटबन्दी से उसे कुछ हासिल नहीं होगा। ईरान बैतुल मुक़द्दस की आज़ादी तक फिलिस्तीन का समर्थन जारी रखेगा फिलिस्तीन के बेगुनाह लोग पिछले ६० साल से ज़ायोनी अत्याचार से पीड़ित हैं ज़ायोनिस्ट इस क्षेत्र में अशांति का सबसे बड़ा कारण है । उन्होंने ट्रम्प प्रशासन को बेघर अमेरिकियों की समस्याओं पर ध्यान देने की नसीहत करते हुए हिंसक और आतंक सहायक गतिविधियों से दूर रहने को कहा ।

 ........................
अल आलम टीवी


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती