Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 185798
Date of publication : 19/2/2017 19:37
Hit : 236

तुर्कीः राष्ट्रपति प्रणाली की मंजूरी के लिए मतदान में सीरियाई शरणार्थियों की भागीदारी का हुआ खुलासा।

सत्ताधारी दल सीरियन शरणार्थियों से लेकर यथा सम्भव उपाय तक पूरा बल लगाये हुए है ताकि ओर्दोगान की इच्छानुसार तुर्की में राष्ट्रपति सत्ता प्रणाली लागू कर सके


विलायत पोर्टल : तुर्की में पार्लियामेंट सत्ता प्रणाली को बदलकर राष्ट्रपति सत्ता प्रणाली करने के लिए १६ अप्रैल को होने वाले रेफ़्रेंडम से पहले एक रहस्य से पर्दा उठा है कि तुर्की के दयार बिक्र में गत महीने आए सीरियन शरणर्थियों के नाम भी चुनाव आयुक्त ने रेफ़्रेंडम में भाग लेने वालों की लिस्ट में जोड़ रखे हैं। तुर्की के कई शहरों में सीरियन शरणार्थियों को रहने की आज्ञा मिली हुई है लेकिन इस रेफ़्रेंडम में उनका भाग लेना तुर्की के राजनीतिक गलियारों में चिंता का विषय बना हुआ है।
राजनीतिक टीकाकारों का कहना है कि ओर्दोगान शरणार्थियों का उपयोग कर रहे है। तुर्की में हुए एक सर्वेक्षण के अनुसार लोगों ने पार्लियामेंट सिस्टम में अपना विश्वास जताया है यही कारण है कि सत्ताधारी दल सीरियन शरणार्थियों से लेकर यथा सम्भव उपाय तक पूरा बल लगाये हुए है ताकि ओर्दोगान की इच्छानुसार तुर्की में राष्ट्रपति सत्ता प्रणाली लागू कर सके।

....................
तसनीम न्यूज़


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

ईरान को CPEC में शामिल कर सऊदी अरब और अमेरिका को नाराज़ नहीं कर सकता पाकिस्तान। भारत पहुँच रहा है वर्तमान का यज़ीद मोहम्मद बिन सलमान, कई समझौतों पर होंगे हस्ताक्षर । ईरान के कड़े तेवर , वहाबी आतंकवाद का गॉडफादर है सऊदी अरब अर्दोग़ान का बड़ा खुलासा, आतंकवादी संगठनों को हथियार दे रहा है नाटो। फिलिस्तीन इस्राईल मद्दे पर अरब देशों के रुख में आया है बदलाव : नेतन्याहू बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम ।