Saturday - 2018 Oct 20
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 185776
Date of publication : 19/2/2017 8:12
Hit : 626

लंबी उम्र पाने का राज़।

सकारात्मक विचार और इच्छाशक्ति इंसान के प्राकृतिक हथियार हैं, सकारात्मक विचारों की बदौलत आप दुनिया में उच्च स्थान प्राप्त कर सकते हैं, अगर आप कोई काम करने से पहले मजबूत इच्छाशक्ति रखते हैं तो एक दिन जरूर सफलता मिलेगी



विलायत पोर्टलः विभिन्न वैज्ञानिक अनुसंधानों से यह बात स्पष्ट है कि बुढ़ापे का संबंध इंसान की उम्र से नहीं बल्कि इंसान के व्यक्तित्व और चेतना से होता है। आर्थिक और सामाजिक संकट आजकल हर घर का हिस्सा हैं लेकिन इसका यह मतलब नहीं कि आप उन्हें अपने ऊपर हावी कर लें, इससे न केवल आपका स्वास्थ्य खराब होगा बल्कि आप इन परेशानियों का कोई उचित समाधान भी नहीं निकाल पाएंगे, स्वस्थ जीवन और दीर्घायु के कुछ ऐसे रहस्य हैं जिन्हें जानकर अपना ख्याल रखना आपके लिए काफी हद तक आसान हो जाएगा।
यहां चार मूल सिद्धांत बयान किए जा रहे हैं जिनके द्वारा आप अपने जीवन में बदलाव ला सकते हैं।
अच्छा सोचें
सकारात्मक विचार और इच्छाशक्ति इंसान के प्राकृतिक हथियार हैं, सकारात्मक विचारों की बदौलत आप दुनिया में उच्च स्थान प्राप्त कर सकते हैं, अगर आप कोई काम करने से पहले मजबूत इच्छाशक्ति रखते हैं तो एक दिन जरूर सफलता मिलेगी, आदमी को अगर अपने ऊपर विश्वास हो तो उसकी सफलता महज संयोग नहीं होती क्योंकि वह पहले से ही जानता है कि उसे सफल होना है।
हम में से अधिकांश लोग इस बात को नहीं जानते हैं कि हमारे सोचने के ढंग और विचारों में इतनी शक्ति है कि वह बुढ़ापे की प्रक्रिया को रोक सकते हैं, आधुनिक विज्ञान और अनुसंधान के अनुसार मानव प्रतिरक्षा शक्ति और तंत्रिका प्रणाली के बीच एक अटूट रिश्ता मौजूद है जो सकारात्मक सोच, ईमान की शक्ति की बदौलत और मज़बूत हो सकता है, साथ ही नकारात्मक सोच और डिपरेशन शारीरिक प्रतिरक्षा शक्ति को कमजोर कर देते हैं, हंसमुख और शांत स्वभाव के लोग उन लोगों की तुलना में अधिक आनंद उठाते हैं जो किसी हाल में खुश और संतुष्ट नहीं रहते, मानसिक दबाव इंसान को सिर्फ बीमार करता है।
एक्सर्साइज़ की पाबंदी
अच्छे स्वास्थ्य के लिए व्यायाम बहुत जरूरी है व्यायाम केवल वजन को नियंत्रित करने के लिए नहीं कि जाता बल्कि व्यायाम द्वारा आप उम्र भर फिट और ऊर्जावान रह सकते हैं, नियमित रूप से व्यायाम करने से थकान नहीं होती, वजन कम होता है, कब्ज की शिकायत भी दूर हो जाती है, वैज्ञानिक अनुसंधान के अनुसार व्यायाम से शरीर में एलडीएलको कोलेस्ट्रॉल और फैट कम होता है, साथ ही एच डी एल कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाता है जो हमारे शरीर के लिए उपयोगी है।
हरकत में बरकत
व्यायाम से शुगर की बीमारियों में इंसोलीन की शारीरिक जरूरत कम होने लगती है, इसलिए व्यायाम के जरिए शरीर के आंतरिक अंगों में इंसोलीन महसूस करने की शक्ति बढ़ जाती है व्यायाम के जरिए दिल मजबूत और ब्लडप्रेशर कम रहता है, डिप्रेशन के रोगियों के लिए व्यायाम अच्छा इलाज है चाहे आप उम्र के किसी भी हिस्से में हों, व्यायाम बहुत जरूरी है, खासकर जब आप स्वस्थ जीवन जीने के इच्छुक हूँ।
संतुलित आहार का उपयोग
संतुलित आहार अच्छे स्वास्थ्य का प्रतिभू है, स्विट्जरलैंड के प्रसिद्ध खाद्य विज्ञान के विशेषज्ञ डॉक्टर बरच्रेनर के अनुसार जब हम ताजा फल और सब्जी खाते हैं तो हमारी आंतों में मौजूद सफेद सेल लाईकोसाईटिस की संख्या बढ़ जाती हैं, यह मानव शरीर में बचाव प्रणाली को मजबूत बनाकर बीमारियों से सुरक्षित रखते हैं, हमारे भोजन का हमारे व्यक्तित्व पर गहरा प्रभाव पड़ता है।
एक प्रसिद्ध कहावत है कि अपने दांतों से अपनी कब्र न खोदो, हमारी व्यस्त जीवन शैली के कारण अब खाने की दिनचर्या भी बदलती जा रही हैं, डिब्बा बंद खाद्य पदार्थ, तेल से भरे बाहर के खाने और बेक्री की मीठी और चिकनी चीज़े हमारी ज़िंदगी का हिस्सा बनती जा रही हैं जो स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव डालती हैं, तो ऐसे खाद्य पदार्थों से दूर रहकर अपने भोजन में ताजा फल और सब्जियों को शामिल करें ताकि आप भी लंबी उम्र पाएं।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :