Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 185707
Date of publication : 15/2/2017 19:5
Hit : 418

जानते हैं अमेरिका और ब्रिटेन, बहरैन जनांदोलन सफल हुआ तो फार्स की खाड़ी से हो जाएगी उनकी छुट्टी।

अमेरिका और ब्रिटेन अच्छी तरह जानते हैं बहरैन क्रांति के बाद उन्हें अपनी साम्राज्यवादी गतिविधियों के साथ फार्स की खाड़ी से निकलना पड़ेगा यही कारण है कि बहरैन में हो रहे अत्याचारों और मानवाधिकार हनन पर यह देश मूक दर्शक बने हुए है ।

विलायत पोर्टल :
जर्मनी में रह रहे बहरैनी मानवाधिकार कार्यकर्ता युसूफ अल्हौरी ने कहा कि बहरैन जनांदोलन ने इन ६ वर्षों में बहुत बलिदान दिया है । सैंकड़ों राजनीतिक विरोधियों को जेल, कुछ की नागरिकता खत्म हो जाना तथा हज़ारों शहीद और सैंकड़ो को निर्वासन तथा अलविफाक़ पार्टी को भंग किया जाना कुछ ऐसे मामले हैं जो इन ६ वर्षों में होते रहे हैं।
हालिया प्रदर्शनों में बहरैन वासियों ने आले खलीफा शासन के खात्मे की अपनी मांगों को जोर शोर से उठाया है। युसूफ ने आशा जताई कि आने वाले सालों में बहरैन का जनांदोलन अपने उद्देश्यों को पाने में सफल रहेगा। उन्होंने शैख़ ईसा क़ासिम के घर के बाहर धरने पर बैठे लोगों के बारे में बात करते हुए कहा कि शैख़ ईसा क़ासिम लोगों में बहुत लोकप्रिय हैं उनके आचरण ने उन्हें बहरैन का आध्यात्मिक पेशवा बना दिया है उनकी ताक़त बहरैनी जनता है तथा जिसकी ताक़त उसकी अपनी जनता हो वह सदैव विजयी रहता है।
सब जानते हैं कि कुछ सप्ताह पहले ही ख़लीफाई सैनिकों ने उनके घर पर हमला किया था लेकिन अपार जनसमूह के कारण वह अपने उद्देश्य में असफल रहे शैख़ क़ासिम को इन लोगों के होते हुए कोई सत्ता हानि नहीं पहुंचा सकती। उनके अनुसार बहरैन राजशाही आयतुल्लाह शैख़ क़ासिम से अपनी दुश्मनी निकाल रही है ज्ञात रहे कि शैख़ क़ासिम जनांदोलन से पहले भी बादशाह की गलत नीतियों का विरोध करते रहे हैं । उन्होंने बहरैन में हो रहे अत्याचारों पर अमेरिका और ब्रिटेन समेत विश्व समुदाय कि चुप्पी पर कहा कि अमेरिका और ब्रिटेन अच्छी तरह जानते हैं बहरैन क्रांति के बाद उन्हें अपनी साम्राज्यवादी गतिविधियों के साथ फार्स की खाड़ी से निकलना पड़ेगा यही कारण है कि बहरैन में हो रहे अत्याचारों और मानवाधिकार हनन पर यह देश मूक दर्शक बने हुए है ।
....................
तसनीम न्यूज़


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

इस्राईल की बेबसी, ताक़त के ज़ोर पर हमास को नहीं हटा सकते : लिबरमैन ट्रम्प दुविधा में, सऊदी अरब से संबंध बचाएं या अय्याश युवराज को हत्यारा घोषित करें ? हश्दुश शअबी की अमेरिकी सेना को ना, अलअंबार में सैन्य विमान नहीं उतरने दिया बैरुत की मांग, लेबनान में S-400 मिसाइल डिफेन्स सिस्टम स्थापित करे रूस तुर्की ने सऊदी अरब पर शिकंजा कसा, ख़ाशुक़जी हत्याकांड की ऑडियो क्लिप की लीक आले सऊद में हलचल, मोहम्मद बिन सलमान के विकल्प पर चर्चा तेज़ । ईदे मिलादुन्नबी, बश्शार असद ने दमिश्क़ की सअद बिन मआज़ मस्जिद में आम लोगों के साथ जश्न में भाग लिया । आले ख़लीफ़ा के अत्याचारों के ख़िलाफ़ सड़कों पर उतरा बहरैन। इराक का ऐलान, अमेरिकी प्रतिबंधों को निष्प्रभावी करने के लिए करेंगे ईरान का सहयोग रूस को ईरान के खिलाफ भड़काने के लिए इस्राईल ने शुरू किया नया ड्रामा सऊदी युवराज बिन सलमान है जमाल ख़ाशुक़जी की हत्या का मास्टर माइंड : यनि शफ़क़ क़ाबुल, ईद मिलादुन्नबी समारोह पर हमला, 40 से अधिक की मौत हिज़्बुल्लाह से हार के बाद जीत का मुंह देखने को तरस गया इस्राईल : ज़ायोनी मंत्री शौहर क्या करे कि घर जन्नत की मिसाल हो इस्राईल दहशत में, जौलान हाइट्स पर युद्ध छेड़ सकता है हिज़्बुल्लाह