Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 185684
Date of publication : 14/2/2017 19:9
Hit : 237

यमन संकट में संयुक्त राष्ट्र की कमज़ोर भूमिका आलोचनीय।

अगर हम इतना ईंधन भी यमन में न ला सके तो यमन में मानव त्रासदी के लिए तैयार रहना चाहिए।


विलायत पोर्टल :
यमन की तेल कंपनी ने पेट्रोलियम उत्पादों को ले जाने वाली अपनी पञ्च कश्तियों को सऊदी अतिक्रमणकारी गठबंधन द्वारा रोके जाने की निंदा की है। यमन के कानूनी हलकों ने यमन संकट तथा इन कश्तियों की बिना किसी रोकटोक के आवाजाही के लिए सऊदी अतिक्रमणकारियों पर दबाव बनाने में असफल रहने पर संयुक्त राष्ट्र की निंदा की है।
ज्ञात रहे कि इन कश्तियों का उद्देश्य यमन को हालिया संकट से निकलने के लिए २ अरब डॉलर जमा करना है। यमन तेल कंपनी के प्रवक्ता अनवर अल आमेरी ने कहा है कि हम सहायताकर्मियों, अस्पतालों, दूतावासों तथा व्यापर समूहों के अलावा खादय आपूर्ति को लेकर प्रतिबद्ध हैं। अगर हम इतना ईंधन भी यमन में न ला सके तो यमन में मानव त्रासदी के लिए तैयार रहना चाहिए। यमन में ह्यूमन राइट्स के निदेशक अम्ल अलमाखेज़ी का कहना है यमन को लेकर संयुक्त राष्ट्र का रवैय्या निगेटिव रहा है अतिक्रमणकारी अरब गठबंधन के अत्याचार दिन प्रतिदिन बढ़ते जा रहे है । हालाँकि यमन में संयुक्त राष्ट्र के दफ्तर है और यमन के नाम पर मदद भी मांगी जा रही है लेकिन वह सनआ एयरपोर्ट पर आवाजाही भी नहीं खुलवा सका और न ही अल हदीदह बन्दरगाह खुली है ।
 ......................
अलआलम टीवी


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

इंसान मौत के समय किन किन चीज़ों को देखता है? हिटलर की भांति विरोधी विचारधारा को कुचल रहे हैं ट्रम्प । ईरान, आत्मघाती हमलावर और आतंकी टीम में शामिल दो सदस्य पाकिस्तानी : सरदार पाकपूर सीरिया अवैध राष्ट्र इस्राईल निर्मित हथियारों की बड़ी खेप बरामद । ईरान को CPEC में शामिल कर सऊदी अरब और अमेरिका को नाराज़ नहीं कर सकता पाकिस्तान। भारत पहुँच रहा है वर्तमान का यज़ीद मोहम्मद बिन सलमान, कई समझौतों पर होंगे हस्ताक्षर । ईरान के कड़े तेवर , वहाबी आतंकवाद का गॉडफादर है सऊदी अरब अर्दोग़ान का बड़ा खुलासा, आतंकवादी संगठनों को हथियार दे रहा है नाटो। फिलिस्तीन इस्राईल मद्दे पर अरब देशों के रुख में आया है बदलाव : नेतन्याहू बहादुर ख़ानदान की बहादुर ख़ातून यह 20 अरब डॉलर नहीं शीयत को नाबूद करने की साज़िश की कड़ी है पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से