Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 185620
Date of publication : 11/2/2017 19:40
Hit : 173

अदालत के निर्णय से हताश व निराश, अलग थलग पड़े ट्रम्प।

ट्रम्प के इस आदेश पर सिएटल की संघीय अदालत ने रोक लगा दी और अमेरिका के अपीली कोर्ट ने भी इस स्टे पर रोक लगाने सम्बन्धी ट्रम्प की याचिका को ख़ारिज कर दिया है ।


विलायत पोर्टल:
अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प २७ जनवरी २०१७ में एक अध्यादेश जारी कर के ईरान, इराक,सीरिया ,लीबिया समेत ७ मुस्लिम देशों के नागरिकों के अमेरिका प्रवेश पर अगले ९० दिनों तक प्रतिबन्ध लगा देते है। इस अध्यादेश के कारण १२० दिनों के लिए शरणार्थियों के प्रवेश पर भी रोक लग गयी।
लेकिन ट्रम्प के इस आदेश पर सियाटेल की संघीय अदालत ने रोक लगा दी और अमेरिका के अपीली कोर्ट ने भी इस स्टे पर रोक लगाने सम्बन्धी ट्रम्प की याचिका को ख़ारिज कर दिया है।
शुक्रवार को प्रेस टीवी से बात करते हुए अमेरिका के विस्कॉन्सिन के लेखक और राजनैतिक विश्लेषक पॉल स्ट्रीट ने संघीय अदालत के फैसले पर स्टे सम्बन्धी ट्रम्प की याचिका को अपीली कोर्ट द्वारा ठुकरा दिए जाने पर कहा कि ट्रम्प मुसलमानो के खिलाफ अपने पक्षपाती और नस्लभेदी अधयादेश पर अदालत की स्वतंत्र और न्यायसंगत कार्यवाही के कारण हताश और निराश है। ट्रम्प ने सोचा था उनका न्याय मंत्रालय, अपीलीय कोर्ट में कामयाब रहेगा और इसी घमण्ड में उन्होने ट्वीट भी क्या था कि तुम्हे अदालत में देख लूंगा राष्ट्र सुरक्षा खतरे में है।
स्ट्रीट के अनुसार ट्रम्प का दावा है कि संघीय अदालत इस केस में निर्णय करने की क्षमता नहीं रखती बल्कि यह उसके अधिकार क्षेत्र से बाहर है। उनके अनुसार इस मामले को सत्यापित तथा इस पर निर्णय करने का अधिकार केवल सुप्रीम कोर्ट को है ।
 .. ..........
 प्रेस टीवी


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....