Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 185617
Date of publication : 11/2/2017 19:9
Hit : 207

अमेरिका ने संयुक्त राष्ट्र में फिलीस्तीनी अधिकारी की नियुक्ति में रोड़े अटकाये।

६४ वर्षीय फ़य्याज़ २००७ से २०१३ तक फिलिस्तीन के प्रधानमंत्री तथा दो बार वित्त मंत्री भी रह चुके हैं।


विलायत पोर्टल:
संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की दूत निक्की हैली ने कहा है कि ट्रम्प प्रशासन फ़य्याज़ सलाम को लीबिया के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष टीम का अध्यक्ष नियुक्त करने की पेशकश से मायूस है। हैली ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र लंबे समय से फिलिस्तीन के मुक़ाबले में हमारे सहयोगी राष्ट्र इस्राईल से नाइंसाफी करता आ रहा है।
हम फ़य्याज़ की नियुक्ति का समर्थन नहीं कर सकते क्योंकि फिलिस्तीन के पास संयुक्त राष्ट्र में पूर्ण सदस्यता नहीं है। यह बयान ऐसे वक़्त में आया है जब संयुक्त राष्ट्र के १९३ सदस्यों में से १३७ सदस्य देश फिलिस्तीन को मान्यता देते हैं।
ज्ञात रहे कि अमेरिका ने फिलिस्तीन को अलग राष्ट्र के रूप में मान्यता नहीं दी है। हैली ने कहा कि अमेरिका अपने सहयोगियों के लिए सिर्फ बाते नहीं करता बल्कि काम कर के भी दिखता है। ६४ वर्षीय फ़य्याज़ २००७ से २०१३ तक फिलिस्तीन के प्रधानमंत्री तथा दो बार वित्त मंत्री भी रह चुके हैं। संयुक्त राष्ट्र जनरल सेक्रेटरी ने सुरक्षा परिषद को शुक्रवार तक इस फिलिस्तीनी अधिकारी के बारे में अपना मत बताने के लिए कहा था।
फ़य्याज़ को २०१५ से लीबिया में कार्यरत जर्मन अधिकारी मार्टिन कॉब्लर की जगह लेनी है। संयुक्त राष्ट्र में ज़ायोनी दूत ने अमेरिका की सराहना करते हुए इसे नए सम्बन्धों की शुरुआत तथा ज़ायोनी राष्ट्र को अमेरिका से मिलने वाला हर प्रकार का भरपूर समर्थन बताया है।
 .............
 प्रेस टीवी


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....