Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 185587
Date of publication : 9/2/2017 20:5
Hit : 735

नस्रुल्लाह की धमकी से सहमा इस्राईल, हीफा शहर का अमोनिया प्रोजेक्ट ठन्डे बस्ते में।

ज़ायोनी औधोगिक संस्था से जुड़े प्रोफेसर एहूद कीनान के अनुसार इस प्लांट पर कोई भी हमला या खुद अमोनिया से होने वाला धमाका हज़ारों लोगों की जान ले सकता है ।


विलायत पोर्टल : हिज़्बुल्लाह की धमकी से सहमे ज़ायोनी अधिकारियों ने फिलिस्तीन के हीफा शहर की अमोनिया पलांट को बन्द करने का आदेश दिया है। यह आदेश हीफा नगरपालिका की अपील पर एक अदालत से लिया गया है। ज़ायोनी औधोगिक संस्था से जुड़े प्रोफेसर एहूद कीनान के अनुसार इस प्लांट पर कोई भी हमला या खुद अमोनिया से होने वाला धमाका हज़ारों लोगों की जान ले सकता है ।अमोनिया लाने ले जाने वाले नाविकों पर होने वाला हमला भी हज़ारों लोगों के प्राण ले सकता है।
इस प्रोजेक्ट के बन्द होने का कारण हिज़्बुल्लाह के महसचिव हसन नसरुल्लाह के उस बयान को भी समझ जा रहा है जिसमें उन्होंने कहा था कि ज़ायोनी भविष्य में होने वाली किसी भी जंग से डर रहे हैं। उन्हें डर है कि हम उनकी गैस इंडस्ट्री को लक्ष्य बनाएंगे जिससे अवैध भूमि में रह रहे कम से कम ८ लाख ज़ायोनी जहन्नम रवाना हो जायएंगे। यह किसी परमाणु हमले के समान होगा उनके हिसाब से हमारे पास परमाणु क्षमता है। इस से पहले इस्राईल के पूर्व वित्तमंत्री ने एक आपातकालीन बैठक में दिए गए भाषण में भी कहा था कि अगर हीफा के औधोगिक क्षेत्र में हिज़्बुल्लाह के आक्रमण या अथवा किसी तकनीकी खराबी से भी कोई धमाका होता है तो इस शहर में रहने वाले १७ हज़ार लोग मारे जायेंगे ।
۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔۔
फार्स न्यूज़


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....