Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 184845
Date of publication : 31/12/2016 17:16
Hit : 203

ईरान और रूस सीरिया संकट के हल के लिए कोशिशें जारी रखेंगे।

ईरान के विदेशमंत्री मुहम्मद जवाद ज़रीफ़ और रूस के विदेशमंत्री सर्गेई लावरोफ़ ने टेलीफ़ोनी वार्ता में सीरिया संकट के समाधान के लिए प्रयास जारी रखने और सीरिया के मामले में संयुक्त राष्ट्र संघ के विशेष राजदूत स्टीफ़न डी मिस्तूरा के साथ समन्वय बनाए रखने पर ज़ोर दिया है।

विलायत पोर्टलः ईरान के विदेशमंत्री मुहम्मद जवाद ज़रीफ़ और रूस के विदेशमंत्री सर्गेई लावरोफ़ ने टेलीफ़ोनी वार्ता में सीरिया संकट के समाधान के लिए प्रयास जारी रखने और सीरिया के मामले में संयुक्त राष्ट्र संघ के विशेष राजदूत स्टीफ़न डी मिस्तूरा के साथ समन्वय बनाए रखने पर ज़ोर दिया है। यह टेलीफ़ोनी वार्ता ऐसी स्थिति में हुई कि रूस के राष्ट्रपति विलादीमीर पुतीन ने गुरूवार को घोषणा की थी कि सीरिया में संघर्ष विराम, तेहरान, मास्को और अंकारा के बीच हुई सहमति का परिणाम है। उन्होंने गुरूवार को रूस के विदेशमंत्री सर्गेई लावरोफ़ और रक्षा मंत्री सर्गेई शाइगो के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा कि सीरिया में संघर्ष विराम, ईरान, रूस और तुर्की के समन्वय से संभव हुआ है और इसी तरह तीनों देश संयुक्त रूप से इसको लागू करने को सुनिश्चित भी करेंगे। इसी तरह ईरान के विदेशमंत्री मोहम्मद जवाद ज़रीफ़ ने सीरिया में होने वाले युद्धविराम समझौते के क्रियान्वयन का स्वागत करते हुए इस सहमति को बड़ी व महत्वपूर्ण उपलब्धि बताया। विदेशमंत्री जवाद ज़रीफ़ के ट्वीटर संदेश में आया है कि सीरिया में युद्धविराम सहमति एक बड़ी उपलब्धि है कि इस अवसर का फ़ायदा उठाकर आतंकवाद की जड़ों को लक्ष्य बनाया और सीरिया संकट के समाधान के मार्ग को प्रशस्त किया जा सकता है। क्षेत्रीय परिवर्तनों पर नज़र डालने से यह पता चलता है कि इराक़ पर अमेरीका और ब्रिटेन के भीषण हमले और मध्यपूर्व में पश्चिम का सैन्य हस्तक्षेप, आतंकवाद को समाप्त नहीं कर सका और सुरक्षा तथा लोकतांत्रिक व्यवस्था की स्थापना के बजाए, मानवीय त्रासदी, अलक़ायदा और आईएस ने इन देशों और क्षेत्र को अपने चंगुल में जकड़ लिया। अब प्रश्न यह होता है कि इन देशों की जनता का भविष्य क्या होगा? क्या पश्चिमी देशों द्वारा आतंकवाद के समर्थन पर हाथ पर हाथ धरे बैठे रहा जाए और उन्हें खुली छूट दे दी जाए कि उनकी जो मर्ज़ी में आए करें? जब आईएस ने लोगों को ज़िंदा जलाया और बड़ी निर्ममता से उनकी गर्दनें मार दी तो मानवाधिकार के दावेदार आतंकियों के समर्थकों ने कुछ भी नहीं किया लेकिन अब स्थिति पूरी तरह बदल चुकी है और सीरिया में राजनैतिक समाधान का मार्ग प्रशस्त हो चुका है।
...................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....