Wed - 2018 Sep 19
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 184737
Date of publication : 24/12/2016 17:13
Hit : 148

आईएस ने सीरिया में पकड़े गए दो तुर्की सैनिकों को ज़िंदा जलाया।

आतंकी गुट आईएस ने अपने विरोधियों के संबंध में अत्यंत हिंसक, बर्बर व अमानवीय रवैया जारी रखते हुए तुर्की के पकड़े गए दो सैनिकों को जिंदा जलाने के चित्र प्रकाशित कर दिए हैं।
विलायत पोर्टलः आतंकी गुट आईएस ने अपने विरोधियों के संबंध में अत्यंत हिंसक, बर्बर व अमानवीय रवैया जारी रखते हुए तुर्की के पकड़े गए दो सैनिकों को जिंदा जलाने के चित्र प्रकाशित कर दिए हैं। आईएस की ओर से जारी किए गए चित्रों में ज़ंजीर से बंधे दो तुर्क सैनिकों को जलते दिखाया गया है। इन दो तुर्क सैनिकों को लगभग दो हफ़्ते पहले उत्तरी सीरिया के अलबाब शहर के निकट से पकड़ा गया था। आईएस ने इन सैनिकों को ज़िंदा जलाए जाने के चित्र ऐसी स्थिति में जारी किए हैं कि जब तुर्की की सेना, अपने ही द्वारा प्रशिक्षित आतंकियों के साथ सीरिया में मौजूद है। इससे पहले दमिश्क़ सरकार ने कई बार सीरिया में तुर्की के अतिक्रमण की निंदा करते हुए मांग की थी तुर्क सेना तत्काल सीरिया से बाहर निकल जाए। इसके अलावा तुर्की सरकार पर देश के अंदर और बाहर से भी सीरिया सरकार के विरोधी आईएस जैसे आतंकी गुटों की मदद के आरोप लगते रहे हैं। इस समय कुछ साक्ष्यों से पता चलता है कि अन्कारा सरकार अपनी पिछली ग़लतियों से पाठ लेते हुए सीरिया में सक्रिय आईएस जैसे आतंकी गुटों से संघर्ष के लिए तैयार हो गई है और इस संबंध में योजना तैयार कर रही है। बहरहाल तुर्क सैनिकों को ज़िंदा जलाने जैसे आईएस के पाश्विक व क्रूर रवैये से इस आतंकी गुट की अमानवीय प्रवृत्ति का ही पता चलता है। आईएस के अमानवीय रवैये से यह भी स्पष्ट होता है कि इस गुट के समर्थकों ने अपनी पिछली ग़लतियों की भारी क़ीमत चुकाई है और इस तकफ़ीरी व ज़ायोनी समर्थित आतंकी गुट के समर्थन का कोई औचित्य हो ही नहीं सकता। अनुभवों से पता चलता है कि अन्कारा सरकार के लिए बेहतर यही होगा कि वह अन्य देशों ख़ास कर पड़ोसी देशों के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप की नीति समाप्त करे और क्षेत्र में सामूहिक सुरक्षा व शांति लौटाने की कोशिश करे।
....................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :