Friday - 2018 June 22
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 184735
Date of publication : 24/12/2016 16:43
Hit : 168

सुरक्षा परिषद द्वारा फ़िलिस्तीनियों की अतिग्रहित ज़मीनों पर कॉलोनियों के निर्माण को तुरंत रोकने का प्रस्ताव।

ज़ायोनी शासन की ओर से अतिग्रहित फ़िलिस्तीनी इलाक़ों में अवैध कॉलोनियों के जारी निर्माण पर अंतर्राष्ट्रीय प्रतिक्रिया के लंबे इंतेज़ार के बाद आख़िरकार संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने फ़िलिस्तीनियों की अतिग्रहित ज़मीनों पर इन कॉलोनियों का निर्माण तुरंत रुकने पर आधारित प्रस्ताव नंबर 2334 पारित किया।

विलायत पोर्टलः ज़ायोनी शासन की ओर से अतिग्रहित फ़िलिस्तीनी इलाक़ों में अवैध कॉलोनियों के जारी निर्माण पर अंतर्राष्ट्रीय प्रतिक्रिया के लंबे इंतेज़ार के बाद आख़िरकार संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने फ़िलिस्तीनियों की अतिग्रहित ज़मीनों पर इन कॉलोनियों का निर्माण तुरंत रुकने पर आधारित प्रस्ताव नंबर 2334 पारित किया। यह सुरक्षा परिषद का अभूतपूर्व क़दम है। इस प्रस्ताव का मसौदा मलेशिया, वेनेज़ोएला, न्यूज़ीलैंड और सेनेगल ने पेश किया। इस प्रस्ताव के पक्ष में 14 मत पड़े जबकि अमेरीका ने मतदान में भाग नहीं लिया। इस प्रस्ताव के मसौदे के आधार पर ज़ायोनी शासन के लिए अनिवार्य है कि वह पूर्वी अलक़ुद्स सहित अतिग्रहित फ़िलिस्तीनी ज़मीनों पर कॉलोनियों के निर्माण को पूरी तरह तुरंत रोके। इसी तरह इस प्रस्ताव में ज़ोर दिया गया है कि इस्राईल की तरफ़ से कॉलोनियों के निर्माण से दो देश के वजूद पर आधारित हल ख़तरे में पड़ जाएगा और यह निर्माण प्रक्रिया शांति के रास्ते में रुकावट है। इस प्रस्ताव के संबंध में अमेरीका का व्यवहार अप्रत्याशित था, क्योंकि अब तक की परंपरा के अनुसार अमेरीका इस्राईल के ख़िलाफ़ प्रस्ताव को वीटो करता आया है लेकिन शुक्रवार को पारित हुए इस प्रस्ताव की मतदान प्रक्रिया में उसने भाग नहीं लिया। कुछ समीक्षकों का मानना है कि अमेरीका का इस्राईल के ख़िलाफ़ प्रस्ताव में भाग न लेने के पीछे, वाइट हाउस की नेतनयाहू की नीति से अप्रसन्नता का एलान है जबकि कुछ समीक्षक ओबामा प्रशासन के इस क़दम को वॉशिंग्टन-तेल अविव संबंध की दृष्टि से अहम नहीं मान रहे हैं। प्रस्ताव नंबर 2334 के संबंध में महत्वपूर्ण बिन्दु यह है कि यह प्रस्ताव ज़ायोनी शासन के नेताओं को राजनैतिक दृष्टि से बहुत अहम संदेश दे रहा है। वह संदेश यह है कि अतिग्रहित फ़िलिस्तीनी ज़मीनों पर कॉलोनियों का निर्माण इतना अन्यायपूर्ण, ग़ैर क़ानूनी व अमानवीय क़दम है कि इस्राईल के सबसे निकटवर्ती घटक अमेरीका भी इस बार विश्व स्तर पर इस्राईल के ख़िलाफ़ एकमत दृष्टिकोण का सीधे तौर पर विरोध करने का साहस नहीं जुटा पाया और मतदान प्रक्रिया से ग़ैर हाज़िर होकर इस प्रस्ताव के पारित होने का रास्ता साफ़ किया हैं हालांकि यह प्रस्ताव अबाध्यकारी है।
....................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :