Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 184721
Date of publication : 22/12/2016 18:41
Hit : 255

अमेरिका द्वारा रूस पर लगाए गए प्रतिबंधों के जवाब में रूस भी अमेरिका पर लगाए गए प्रतिबंधों में वृद्धि करेगा।

अमेरिका में होने वाले राष्ट्रपति पद के चुनावों और इस देश के साइबर हमले में रूस के हस्तक्षेप को लेकर वाशिंग्टन और मॉस्को के बीच तनाव जारी है।

विलायत पोर्टलः अमेरिका में होने वाले राष्ट्रपति पद के चुनावों और इस देश के साइबर हमले में रूस के हस्तक्षेप को लेकर वाशिंग्टन और मॉस्को के बीच तनाव जारी है। इसी बीच अमेरिकी वित्तमंत्रालय ने यूक्रेन संकट के बहाने रूस के विरुद्ध अधिक प्रतिबंध लगा दिया है। अमेरिकी वित्तमंत्रालय ने यूक्रेन संकट में मॉस्को के हस्तक्षेप का दावा किया और वित्तमंत्रालय की ओर से जारी विज्ञप्ति में उन 26 कंपनियों और रूसी बैंकों के नामों को दोहराने के साथ, जिन पर पहले ही प्रतिबंध लगाया गया था, नये नामों की तरफ़ भी इशारा किया गया है। अमेरिकी वित्तमंत्रालय की नई सूची में सात अधिकारियों, आठ कंमनियों, संस्थाओं और दो रूसी जहाज़ों के नामों की वृद्धि की गई है। वर्ष 2014 में यूक्रेन से अलग होकर क्रीमिया प्रायद्वीप का विलय रूस में हो गया था जिसके बाद अमेरिका और यूरोपीय संघ ने मॉस्को पर प्रतिबंध लगा दिया। मॉस्को ने ऐलान किया था कि क्रिमिया प्रायद्वीप को सोवियत संघ के काल में यूक्रेन को दे दिया गया था और उसके पश्चात उसका विलय फिर रूसी फेडरेशन में हो गया। मॉस्को ने अमेरिकी वित्तमंत्रालय की ओर से लगाये जाने वाले इन प्रतिबंधों को समाप्त होने वाली ओबामा सरकार की शत्रुतापूर्ण कार्यवाही का नाम दिया है और कहा है कि इसके जवाब में रूस भी अमेरिका के विरुद्ध अपने प्रतिबंधों की सूची में वृद्धि करेगा। इन प्रतिबंधों की घोषणा उस समय की गई है जब एक महीने बाद बराक ओबामा सत्ता की बागडोर नव निर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के हवाले करेंगे और मानवाधिकार, यूक्रेन और सीरिया के मामले को लेकर रूस और अमेरिका के बीच गहरे मतभेद रहे हैं परंतु चूंकि डोनाल्ड ट्रंप ने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतीन के साथ सहकारिता की बात की है इसके दृष्टिगत रूस को नये दौर में मॉस्को- वाशिंग्टन संबंधों के बेहतर होने की अपेक्षा है। बहरहाल रूस वह देश नहीं है जो विश्व विशेषकर पूर्वी यूरोप में होने वाले परिवर्तनों से लापरवाह रहे और कुछ न करे। साथ ही रूस एक अंतरराष्ट्रीय शक्ति है जो यूरोप सहित बाहरी क्षेत्रों में भी अपने हितों की पूर्ति की कोशिश में है जो वाशिंग्टन के हितों से विरोधाभास रखते हैं।
......................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

बर्नी सैंडर्स की मांग, सऊदी तानाशाही की नकेल कसे विश्व समुदाय । ईरान विरोधी बैठकों से कुछ हासिल नहीं, यादगारी तस्वीरें लेते रहे नेतन्याहू । हसन नसरुल्लाह का लाइव इंटरव्यू होगा प्रसारित,सऊदी इस्राईली मीडिया की हवा निकली । आले ख़लीफ़ा का यूटर्न , कभी भी दमिश्क़ विरोधी नहीं था बहरैन इदलिब , नुस्राह फ्रंट के ठिकानों पर रूस की भीषण बमबारी । हश्दुश शअबी की कड़ी चेतावनी, आग से न खेले तल अवीव,इस्राईल की ईंट से ईंट बजा देंगे । दमिश्क़ पर फिर हमला, ईरानी हित थे निशाने पर, जौलान हाइट्स पर सीरिया ने की जवाबी कार्रवाई । नहीं सुधर रहा इस्राईल, दमिश्क़ के उपनगरों पर फिर किया हमला। अमेरिका में गहराता शटडाउन संकट, लोगों को बेचना पड़ रहा है घर का सामान । हसन नसरुल्लाह ने इस्राईली मीडिया को खिलौना बना दिया, हिज़्बुल्लाह की स्ट्रैटजी के आगे ज़ायोनी मीडिया फेल । रूस और ईरान के दुश्मन आईएसआईएस को मिटाना ग़लत क़दम होगा : ट्रम्प फ़िलिस्तीनी जनता के ख़ून से रंगे हैं हॉलीवुड सितारों के हाथ इदलिब और हलब में युद्ध की आहट, सीरियन टाइगर अपनी विशेष फोर्स के साथ मोर्चे पर पहुंचे । देश छोड़ कर भाग रहे हैं सऊदी नागरिक , शरण मांगने वालों के संख्या में 318% बढ़ोत्तरी । इराक सेना अलर्ट पर किसी भी समय सीरिया में छेड़ सकती है सैन्य अभियान ।