Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 184694
Date of publication : 21/12/2016 17:17
Hit : 277

मानवाधिकारों की मांग करने वाले कुछ देश वास्तव में मानवाधिकारों का सबसे अधिक दुरुपयोग करने वाले हैः ईरान

संयुक्त राष्ट्र संघ की महासभा में मानवाधिकार के संबंध में होने वाली बैठक में कुछ लाबियों के दबाव में ईरान विरोधी प्रस्ताव पारित हुआ जिसमें ईरान के भीतर मानवाधिकार की स्थिति पर टिप्पणी की गई।

विलायत पोर्टलः संयुक्त राष्ट्र संघ की महासभा में मानवाधिकार के संबंध में होने वाली बैठक में कुछ लाबियों के दबाव में ईरान विरोधी प्रस्ताव पारित हुआ जिसमें ईरान के भीतर मानवाधिकार की स्थिति पर टिप्पणी की गई। संयुक्त राष्ट्र संघ में ईरान के राजदूत ग़ुलाम हुसैन देहक़ान ने प्रस्ताव की आलोचना करते हुए कनाडा सहित प्रस्ताव पेश करने वाले देशों की लक्ष्यों की समीक्षा करते हुए कहा कि यह बात बहुत घृणात्मक है कि कोई देश मानवाधिकारों के हनन में सबसे आगे हो और वह इस ईरान विरोधी हास्यास्पद प्रस्ताव का समर्थन करे। इस प्रस्ताव का एकमात्र लक्ष्य ईरान पर राजनैतिक दबाव डालना है। कनाडा, अमेरीका और ब्रिटेन जैसे देश जिन्होंने यह प्रस्ताव पेश किया था वास्तव में मानवाधिकारों का सबसे अधिक दुरुपयोग करते हैं। इन देशों को कोशिश यह रहती है कि इस प्रकार के क़दम उठाकर मानवाधिकार के क्षेत्र में अपने काले करतूतों से लोगों का ध्यान हटा दें। पश्चिमी देशों ने मानवाधिकार के विषय को उन देशों पर दबाव डालने का हथियार बना लिया है जो पश्चिम की नीतियों का समर्थन नहीं करते। इसी लिए ईरान ने इस प्रस्ताव पर आपत्ति जताई है और कहा है कि यह शक्तियां केवल उसी समय तक जनता के चयन वाले विकल्पों का सम्मान करती हैं जब तक इसमें उनके स्वार्थ पूरे होते हों। यदि कोई राष्ट्र पश्चिमी दृष्टिकोण से हटकर कोई विकल्प चुन लेता है तो पश्चिमी की दृष्टि में उसने दंडनीय अपराध कर लिया है। लेकिन जब पश्चिमी देशों के घटकों की बात आती है तो लोकतंत्र और मानवाधिकार सब किनारे लगा दिए जाते हैं। पश्चिमी देश अपने घटकों का हर स्तर पर बचाव करते हैं चाहे लोकतंत्र और मानवाधिकार के संबंध में उनका रिकार्ड कितना ही ख़राब क्यों न हो। इसमें कोई संदेह नहीं कि ईरान विरोधी प्रस्ताव का लक्ष्य ईरानोफ़ोबिया फैलाना है। इस अभियान में कनाडा जैसे देश शामिल हैं जहां स्थानीय जातियों के अधिकारों का हनन सर्वविदित है। इस देश में रेड इंडियन्स तथा कालों के साथ बड़ा निर्दयतापूर्ण बर्ताव किया जाता है। मानवाधिकार का मुद्दा अंतर्राष्ट्रीय महत्व रखता है लेकिन आज की दुनिया में स्थिति यह है कि ग़ज़्ज़ा, और यमन में जिस तरह अमेरीका, कनाडा और ब्रिटेन के हथियारों से सऊदी अरब और इस्राईल बेगुनाह इंसानों ही नहीं बच्चों और महिलाओं की भी निर्ममता से हत्या कर रहे हैं और बार बार रिपोर्टें आने के बावजूद यह देश हथियारों की सप्लाई में कोई कमी नहीं कर रहे हैं।
......................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....