Thursday - 2018 Oct 18
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 184677
Date of publication : 20/12/2016 19:18
Hit : 256

नाइजीरिया में शेख़ ज़कज़की और उनके समर्थकों का दमन, साम्राज्यवादी ताक़तो के इशारे पर किया जा रहा है।

नाइजीरिया के "ज़ारिया" शहर में शेख़ ज़कज़की और उनके समर्थकों का बड़े पैमाने पर पश्चिमी समर्थित नाइजीरिया की सरकार द्वारा दमन जारी है, मीडिया की चुप्पी इस मुद्दे पर हैरान करने वाली है।
विलायत पोर्टलः नाइजीरिया के "ज़ारिया" शहर में शेख़ ज़कज़की और उनके समर्थकों का बड़े पैमाने पर पश्चिमी समर्थित नाइजीरिया की सरकार द्वारा दमन जारी है, मीडिया की चुप्पी इस मुद्दे पर हैरान करने वाली है। पिछले 2 साल में शेख़ ज़कज़की के 6 बेटों और उनके सैंकड़ों समर्थकों को मौत के घाट नाइजीरियन फौज के द्वारा उतारा जा चुका है और आज भी बड़े पैमाने पर नाइजीरिया में मानवाधिकारों का उल्लंघन जारी है। नाइजीरिया में जारी इस नरसंहार के पीछे की असली कारणों का जानना बेहद ही ज़रूरी है। शेख़ ज़कज़की के समर्थकों का यह दमन गुडलक जोनाथन के राष्ट्रपति बनने के बाद बड़ी तेज़ी से बढ़ता है, गुडलक जोनाथन के राष्ट्रपति बनने के बाद से लगातार सऊदी और इस्राईली इंटेलिजेंस का दखल नाइजीरिया के आंतरिक मामलों में बढ़ता गया है। नाइजीरियाई सेना का कहना है कि ज़कज़की के समर्थक सड़कों को जाम कर रहे थे इसलिए उन्हें ये "ज़ारिया" शहर में बलप्रयोग करना पड़ा जिसमे सैंकड़ों लोग मारे गये लेकिन सवाल यहाँ पर ये उठता है कि क्या शांतिपूर्वक तरीक़े से अपने धार्मिक कार्यक्रम आयोजित करना एक लोकतान्त्रिक देश में गुनाह है? इस नरसंहार की असली वजहों में बारे में संक्षेप से नीचे चर्चा की गई है। सबसे पहली वजह ये है कि साम्राज्यवादी ताक़तों द्वारा लगातार लंबे समय से नाइजीरिया को धर्म के आधार पर बांटने का खेल जारी है जिसे शेख़ ज़कज़की ने समय रहते समझ लिया और इस खेल का जवाब पूरे देश को एकजुट कर के बखूबी दे दिया। नाइजीरिया के अंदर प्राकृतिक संसाधन बहुत बड़ी मात्रा में हैं जिनमे मुख्य रूप से तेल, प्राकृतिक गैस, टिन, लोहा, कोयला, जिंक, अराबले, नाइओबियम, लीड, लाइमस्टोन शामिल हैं। पश्चिमी देशों की कंपनियों द्वारा नाइजीरिया के इन प्राकृतिक संसाधनों की लूट बड़े स्तर पर जारी है, शेख़ ज़कज़की हमेशा से इस पश्चिमी देशों की कंपनियों के द्वारा की जा रही प्राकृतिक संसाधनों की लूट के धुर विरोधी रहे हैं। इसी वजह से शेख़ ज़कज़की को पश्चिमी आकाओं के कहने पर नाइजीरिया की सरकार द्वारा बार बार निशाना बनाया जा रहा है। शेख़ ज़कज़की को निशाना बनाये जाने का एक अन्य कारण है शेख़ ज़कज़की का फ़िलिस्तीन का समर्थक होना, वे पूरे अफ्रीका में फिलिस्तीन के सबसे बड़े समर्थक माने जाते हैं और हर साल वे क़ुद्स दिवस पर फ़िलिस्तीन के समर्थन में लाखों लोगों की रैलियां नाइजीरिया में आयोजित करते रहे हैं। शेख़ ज़कज़की नाइजीरिया में बढ़ते हुए सऊदी अरब समर्थित वहाबियत के भी धुर विरोधी रहे हैं। सऊदी अरब के समर्थन से ही अबूबकर गुमी के नेतृत्व में 1978 में वहाबी आंदोलन "इज़ाला" की शुरुआत उत्तरी नाइजीरिया में हुई। अबूबकर गुमी ने ही सऊदी अरब की आर्थिक मदद से ही उत्तरी नाइजीरिया में सूफी सुन्नियों को खत्म करने का एक व्यापक अभियान शुरू किया। इसके बाद नाइजीरिया के अंदर सऊदी समर्थित वहाबियों की बाढ़ सी आ गयी जिसमे जफ़र महमूद अदम नाम के वहाबी को सऊदी अरब के द्वारा दी गयी व्यापक आर्थिक मदद भी शामिल है। शेख़ ज़कज़की ने नाइजीरिया के अंदर बढ़ते हुए वहाबियत के ख़िलाफ़ एक बड़ा अभियान छेड़ा और बड़े पैमाने पर वहाबियत के ऊपर रोक लगाने में उन्हें सफलता प्राप्त हुई और इसी वजह से वो सऊदी अरब के निशाने पर आ गए। इन वजहों से शेख़ ज़कज़की और उनके समर्थकों का नरसंहार पश्चिमी समर्थित नाइजीरिया की सरकार द्वारा जारी है। यह समय की ज़रुरत है कि दुनिया के अमन पसंद लोग नाइजीरिया में जारी इस नरसंहार के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाएं और शेख़ ज़कज़की की रिहाई के लिए नाइजीरिया की सरकार पर दबाव बनाएं।
......................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :