Friday - 2018 June 22
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 184632
Date of publication : 18/12/2016 15:58
Hit : 289

हमारे युवाओं को जो राष्ट्र के सपूत और देश के भावी नेता हैं, अपनी सक्रिय उपस्थिति द्वारा दुश्मनों की साज़िशों को नाकाम बनाना चाहिएः सुप्रीम लीडर

इस्लामी रिवाल्यूशन के सुप्रीम लीडर ने कहा कि दुश्मन देश के युवाओं के मन व मस्तिष्क को प्रभावित करना चाह रहे हैं और इसका एक उद्देश्य ईरान पर अपना आर्थिक, राजनीतिक और सांस्कृतिक वर्चस्व जमाना है।

विलायत पोर्टलः इस्लामी रिवाल्यूशन के सुप्रीम लीडर ने कहा कि दुश्मन देश के युवाओं के मन व मस्तिष्क को प्रभावित करना चाह रहे हैं और इसका एक उद्देश्य ईरान पर अपना आर्थिक, राजनीतिक और सांस्कृतिक वर्चस्व जमाना है। सुप्रीम लीडर आयतुल्लाहिल उज़मा सैयद अली ख़ामेनई ने मंगलवार को तेहरान में छात्रों के एक कार्यक्रम के मौक़े पर कहा कि युवाओं को जो आज ईरानी राष्ट्र के सपूत और देश के भावी नेता व अधिकारी हैं, अपनी सक्रिय उपस्थिति द्वारा दुश्मनों की इस साज़िश को नाकाम बनाना चाहिए। सुप्रीम लीडर ने छात्रों के मध्य अपने भाषण में कहा कि सामाजिक व व्यक्तिगत विकास का रहस्य, अल्लाह से संपर्क बनाए रखने में निहित है और आज डूबती और पतन की तरफ़ बढ़ती पश्चिमी सभ्यता की सब से बड़ी बुराई, अल्लाह से संपर्क खत्म करना है। सुप्रीम लीडर ने छात्रों से कहा कि वह देश पर जान न्योछावर करने वाले शहीदों को अपना आदर्श बनाएं जिन्होंने देश की स्वाधीनता और राष्ट्रीय हितों की रक्षा और दुश्मनों को भगाने के लिए अपनी सब से मूल्यवान पूंजी अर्थात अपनी जान न्योछावर कर दी। सुप्रीम लीडर ने अल्लाह से संबंध बनाए रखने का रास्ता, नमाज़ और कुरआन की तिलावत बताया और कहा कि इस बात पर ध्यान देने से कि नमाज़ पढ़ते समय मनुष्य, अल्लाह से बात करता है इंसान में अल्लाह पर भरोसा, साहस और आत्मविश्वास पैदा होता है इस लिए नमाज़ उसके सही समय पर और पूरे ध्यान से पढ़ना चाहिए और कुरआन से उसके अर्थों को समझ कर अल्लाह से क़रीब होना और स्थायी संबंध बनाना चाहिए।
....................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :