Friday - 2018 August 17
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 184588
Date of publication : 14/12/2016 16:18
Hit : 250

ईरान और रूस के स्ट्रेटैजिक भागीदारी की दिशा में आगे बढ़ते हुए।

ईरान और रूस ने तेल के क्षेत्र में सहयोग के समझौते पर हस्ताक्षर किए। समझौते के आधार पर जो ईरान की नेशनल पेट्रोलियम कंपनी तथा रूस की गैज़प्रोम कंपनी के बीच हुआ है।
विलायत पोर्टलः ईरान और रूस ने तेल के क्षेत्र में सहयोग के समझौते पर हस्ताक्षर किए। इस समझौते के आधार पर जो ईरान की नेशनल पेट्रोलियम कंपनी तथा रूस की गैज़प्रोम कंपनी के बीच हुआ है पश्चिमी ईरान के चश्मे ख़ुश और चंगूले के आयल फ़ील्ड्ज़ में अध्ययन का काम रूस की सरकारी कंपनी करेगी। समझौते पर हस्ताक्षर ईरान के पेट्रोलियम मंत्री बीजन नामदार ज़ंगने तथा रूस के ऊर्जा मंत्री इलेग्ज़ंडर नोवाक की उपस्थिति में हुए। इसी तरह तेहरान में संयुक्त आर्थिक सहयोग कमीशन की तेरहवीं बैठक में रूसी ऊर्जा मंत्री तथा ईरान के सूचना व प्रसारण मंत्री महमूद वाएज़ी की उपस्थिति में एक रोडमैप पर हस्ताक्षर हुए। इस समय हालात बहुत बदल चुके हैं और ईरान तथा रूस का सहयोग रणनैतिक दौर में पहुंच चुका है और दोनों देश सामूहिक सुरक्षा व शांति के आधार पर सामरिक मैदानों में भी सहयोग कर रहे हैं। क्षेत्र ख़ास तौर से सीरिया में आतंकवाद सहित अनेक ख़तरों से निपटने में ईरान और रूस की संयुक्त रणनीति बहुत उपयोगी साबित हुई है। इस तरह मध्यपूर्व के क्षेत्र में हो रहे परिवर्तनों के अनुसार दोनों देशों का सहयोग भी आगे बढ़ रहा है। इस समय बहुत तेज़ी से बदलाव आ रहा है और यह बदलाव एसा है जिसका असर केवल सीरिया और इराक़ पर नहीं बल्कि पूरे क्षेत्र पर पड़ा है। इस क्षेत्र में पश्चिमी देशों के वर्चस्व के प्रयासों ने गंभीर समस्याएं खड़ी कर दी हैं। इस बीच रूस ने इस क्षेत्र में अपनी गतिविधियां बढ़ दी हैं जबकि ईरान भी राष्ट्रीय और क्षेत्रीय हितों के दृष्टगति अमल कर रहा है। अलबत्ता यह भी तय है कि कुछ शक्तियां और सरकारें एसी हैं जिन्हें यह सहयोग एक आंख नहीं भा रहा है और वह इस कोशिश में लग गई हैं कि इसमें रुकावट डाली जाए। ज़ायोनी प्रधानमंत्री नेतनयाहू ने इन दिनों अपनी सक्रियता बढ़ा दी ताकि ईरान और रूस के बीच सहयोग में विस्तार को रोका जा सके। ईरान और रूस इस समय एसी दिशा में आगे बढ़ रहे हैं जो उनके पारस्परिक सहयोग को और भी मज़बूत बनाएगी तथा ऊर्जा सहित अनेक क्षेत्रों में पारस्परिक सहयोग में विस्तार निश्चित है। दोनों देशों के पास व्यापक क्षमताएं भी हैं इस लिए दोनों देशों के बीच संबंधों के अच्छे भविष्य की आशा रखी जा सकती है।
......................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :