Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 184539
Date of publication : 11/12/2016 16:50
Hit : 221

अगर अमेरीका ने ईरान पर हमला करने की ग़लती की तो उसे पछताना पड़ेगा।

ईरान की सशस्त्र सेना के प्रवक्ता ने इस्लामी रिपब्लिक के ख़िलाफ़ अमेरीका के किसी भी अतिक्रमण के प्रति कड़ी चेतावनी दी है।
विलायत पोर्टलः ईरान की सशस्त्र सेना के प्रवक्ता ने इस्लामी रिपब्लिक के ख़िलाफ़ अमेरीका के किसी भी अतिक्रमण के प्रति कड़ी चेतावनी दी है। डिप्टी चीफ़ ऑफ़ स्टाफ़ ब्रिगेडियर मसऊद जज़ायरी ने शनिवार को एक बयान में कहा, अगर अमेरीका या उसके किसी पिट्ठू ने कोई अपरिपक्व और अव्यवसायिक क़दम उठाया तो उसे निश्चित रूप से ईरान की कड़ी प्रतिक्रिया का सामना करना पड़ेगा। जज़ायरी का कहना था कि फ़ार्स की खाड़ी की मौजूदा सामरिक और सुरक्षा परिस्थिति ऐसी है कि दुश्मन के सैनिक और सैन्य उपकरण पूर्ण रूप से ईरानी सेना की पहुंच में हैं। उन्होंने ज़ोर देकर कहा कि फ़ार्स खाड़ी पर ईरानी सेनाओं का किसी भी समय से अधिक कंट्रोल है।
..................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

अफ़ग़ानिस्तान, एक महीने में आतंकियों ने 250 से अधिक फौजियों को मारा इदलिब में जंग की आहट, आतंकवादी संगठनों को उकसा रहा है अमेरिका यमन सेना का पलटवार, आले सऊद के 15 आतंकी हलाक बिन सलमान की उल्टी गिनती शुरू, सत्ता से जल्दी ही हो सकती है विदाई ईरान अमेरिका के सैन्य ढांचे को ध्वस्त करने में सक्षम, चीन और रूस की बढ़ती ताक़त से दहशत में वाशिंगटन : न्यूज़वीक दीन के बाक़ी रहने का राज़ अहलेबैत अ.स. की मोहब्बत में है अमेरिका ने लगाई गुहार, ईरान का मुक़ाबला करने के लिए एकजुट हों अरब देश ईरान को छोड़ो सऊदी अरब की लगाम कसना बहुत ज़रूरी : रैंड पॉल इराक की धरती को ईरान के हितों को चोट पहुँचाने के लिए भी प्रयोग नहीं होने देंगे : बरहम सालेह दमिश्क़, आम लोगों पर मौत बनकर बरसे अमेरिकी विमान, 40 से अधिक की मौत। इस्राईल का भविष्य दांव पर, अकेले कई अरब देशों को हराना वाला अवैध राष्ट्र आज हमास से नहीं जीत सकता : ज़ायोनी सैन्याधिकारी ट्रम्प की एक और हार, अदालत ने दिया सीएनएन पत्रकार का पास जारी करने का आदेश ट्रम्प, बिन सलमान, और नेतन्याहू के शैतानी त्रिकोण को संकट का सामना : हिज़्बुल्लाह आईएसआईएस इस्लाम का प्रतीक नहीं, हरमैन शरीफ़ैन के साथ विश्वासघात कर रहे हैं आले सऊद सऊदी के बाद आर्थिक मदद मांगने संयुक्त अरब अमीरात जाएंगे इमरान खान