Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 184506
Date of publication : 8/12/2016 18:43
Hit : 261

ईरान विदेशमंत्री की जापान के प्रधानमंत्री से मुलाक़ात।

ईरान के विदेशमंत्री मोहम्मद जवाद ज़रीफ़ पूर्वी एशियाई देशों की यात्रा के तीसरे पड़ाव में 6 दिसंबर को टोक्यो पहुंचे। यह उनकी यात्रा का अंतिम पड़ाव था।

विलायत पोर्टलः ईरान के विदेशमंत्री मोहम्मद जवाद ज़रीफ़ पूर्वी एशियाई देशों की यात्रा के तीसरे पड़ाव में 6 दिसंबर को टोक्यो पहुंचे। यह उनकी यात्रा का अंतिम पड़ाव था। मोहम्मद जवाद ज़रीफ़ जापान जाने से पहले भारत और चीन भी गये थे। विदेशमंत्री ने टोक्यो हवाई अड्डे पर पत्रकारों से वार्ता में कहा कि जापान यात्रा में भी भारत और चीन की भांति अधिकतर वार्ता आर्थिक और राजनीतिक संबंधों को बेहतर बनाने के संबंध में होगी। इसी कारण विदेशमंत्री के साथ बड़ा आर्थिक प्रतिनिधिमंडल भी है। विदेशमंत्री ने बुधवार को जापान के विदेशी व्यापार संगठन जेत्रो के प्रमुख के साथ वार्ता में जापानी कंपनियों के पूंजी निवेश के लिए ईरान में शांति व सुरक्षा की तरफ़ इशारा के साथ स्पष्ट किया कि ईरान जापान के साथ आर्थिक सहकारिता में विस्तार का इच्छुक है। जापान के विदेशी व्यापार संगठन के प्रमुख एशीगेह ने भी इस मुलाक़ात में कहा कि प्रतिबंधों के समाप्त होने के बाद ईरान में जापानी कंपनियों के पूंजी निवेश के लिए अधिक भूमि प्रशस्त हो गयी है लेकिन आर्थिक विषयों के साथ राजनीतिक, क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय मामलों की भी इस भेंटवार्ता में समीक्षा की गई। जापान के साथ संबंधों में विस्तार को ईरान की विदेश नीति में विशेष स्थान प्राप्त है और यह विचार मौजूद है कि ईरान और जापान अपनी-2 संभावनाओं के दृष्टिगत एक दूसरे से विस्तृत सहकारिता कर सकते हैं लेकिन ईरानी बाज़ार में एशियाई और यूरोपीय देशों की अपेक्षा जापान की उपस्थिति कम है। अतीत में ईरान और जापान के संबंध अच्छे रहे हैं परंतु हालिया वर्षों में जापान द्वारा ईरान के विरुद्ध प्रतिबंधों पर आधारित अमेरिकी नीतियों के अनुसरण के कारण इन संबंधों में विघ्न उत्पन्न हो गया। ईरान के राष्ट्रपति डॉक्टर हसन रूहानी ने पिछले सिंतबर महीने में संयुक्त राष्ट्रसंघ की महासभा के अवसर पर जापान के प्रधानमंत्री शिन्ज़ों आबे के साथ भेंटवार्ता में कहा था कि हम अगले 10 सालों के लिए आर्थिक रोड मैप संकलित करने के लिए तैयार हैं। इस मुलाक़ात में जापान के प्रधानमंत्री शिन्ज़ो आबे ने भी अधिक से अधिक तेहरान-टोक्यो की सहकारिता की आवश्यकता पर ज़ोर देते हुए कहा था कि हम दोनों देशों के आर्थिक संबंधों को संभव सीमा तक बेहतर बनाना चाहते हैं। याद रहे ईरान और जापान एशिया के दो महत्वपूर्ण देश हैं और आर्थिक मामलों में एक दूसरे से सहकारिता करके बहुत प्रभावी भूमिका निभा सकते हैं।
....................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

राष्ट्रपति निकोलस मादुरो का ऐलान, अमेरिका के साथ कोई संबंध नहीं रखेगा वेनेज़ोएला पेरिस की आग की अनदेखी कर वेनेज़ोएला को सीख दे रहा है फ्रांस । रूस की अमेरिका को कड़ी चेतावनी, वेनेज़ोएला के मामलों में सैन्य हस्तक्षेप बर्दाश्त नहीं सरदार क़ासिम सुलेमानी को फॉरेन पॉलिसी के सर्वश्रष्ठ थिंकर्स में शामिल। आयतुल्लाह सीस्तानी से मिलने पहुँच संयुक्त राष्ट्र का प्रतिनिधि दल ईरान और इस्राईल में छिड़ सकता है युद्ध, उकसावे की कार्रवाई कर रहा है तल अवीव। अरब शासकों को ट्रम्प का आदेश, दमिश्क़ से संबंध सुधारो। इस्राईल के हमले नहीं रुके तो दमिश्क़ तल अवीव एयरपोर्ट को निशाना बनाने के लिए तैयार : बश्शार क़ुद्स को राजधानी बना कर अलग फ़िलिस्तीन राष्ट्र का गठन हो : चीन अय्याश सऊदी युवराज बिन सलमान ने माँ के बाद अब अपने भाई को बंदी बनाया। क़ासिम सुलेमानी के आदेश पर सीरिया ने इस्राईल पर मिसाइल दाग़े : ज़ायोनी मीडिया यूरोपीय यूनियन के ख़िलाफ़ बश्शार असद का बड़ा क़दम, राजनयिकों का विशेष वीज़ा किया रद्द। अमेरिकी सेना ने माना, इराक युद्ध का एकमात्र विजेता है ईरान । बर्नी सैंडर्स की मांग, सऊदी तानाशाही की नकेल कसे विश्व समुदाय । ईरान विरोधी बैठकों से कुछ हासिल नहीं, यादगारी तस्वीरें लेते रहे नेतन्याहू ।