Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 183528
Date of publication : 23/9/2016 8:30
Hit : 747

उसूल व फ़ुरूए दीन के लिए शिया स्रोत क्या हैं?

शिया मज़हब की पहचान के सम्बंध में एक महत्वपूर्ण बहस यह भी है कि शिया धर्म के मौलिक स्रोत किया हैं? अर्थात शिया अपने उसूले दीन और फ़ुरू-ए-दीन को किस प्रकार और किन स्रोतों से हासिल करते हैं और इस बारे में दूसरे समुदायों और शिया मज़हब के बीच संयुक्त आधार क्या हैं?



विलायत पोर्टलः शिया मज़हब की पहचान के सम्बंध में एक महत्वपूर्ण बहस यह भी है कि शिया धर्म के मौलिक स्रोत किया हैं? अर्थात शिया अपने उसूले दीन और फ़ुरू-ए-दीन को किस प्रकार और किन स्रोतों से हासिल करते हैं और इस बारे में दूसरे समुदायों और शिया मज़हब के बीच संयुक्त आधार क्या हैं? इन सवालों का जवाब यह है कि बारह इमामों के मानने वाले शिया उसूल व फ़ुरू-ए-दीन को चार स्रोतों से हासिल करते हैं :
1. क़ुरआन मजीद                 2. रसूले इस्लाम स.अ की सुन्नत 3. अहलेबैत अ. की हदीसें     4. बुद्धि    (अक़्ल)1.    क़ुरआने करीमक़ुरआने करीम को सभी इस्लामी समुदाय स्वीकार करते हैं। यद्धपि क़ुरआने करीम के मतलब को लेकर कुछ आंशिक मुद्दों के बारे में मतभेद पाया जाता है मगर फिर भी क़ुरआने करीम समस्त मुसलमानों का संयुक्त स्रोत है। इस प्रकार शियों के निकट भी अइम्मा-ए-ताहेरीन की शिक्षाओं के अनुसार क़ुरआने करीम धार्मिक मूलतत्वों, इस्लामी आदेशों एंव नियमों का पहला और सबसे महत्वपूर्ण स्रोत है जैसा कि इमाम जाफ़र सादिक़ अ. इस बारे में कहते हैः
«انّ اللّه تبارك و تعالى أنزل في القرآن تبيان كلّ شيء حتّى و اللّه، ما ترك اللّه شيئا يحتاج اليه العباد حتّى لايستطيع عبد يقول لو كان هذا أنزل في القرآن، الاّ و قد انزله اللّه فيه»“अल्लाह ने क़ुरआन मजीद में हर चीज़ को स्पष्ट कर दिया है और अल्लाह की क़सम हिदायत के सिलसिले में बन्दों  को जिन चीज़ों की आवश्यकता हो सकती है उनमें से अल्लाह ने कोई चीज़ भी नहीं छोड़ी है ताकि कोई यह न कह सके कि अगर यह आदेश अल्लाह की ओर से होता तो क़ुरआन मजीद में मौजूद होता, जबकि अल्लाह ने उसे क़ुरआन मजीद में बयान कर दिया है।“(उसूले काफ़ी बाबुर्रद्दे इलल किताबे वस-सुन्नः  हदीस 6)दूसरे स्थान पर आपने यह फ़रमाया हैःما من أمر يختلف فيه اثنان الاّ و له اصل في كتاب اللّه عزّوجّل، و لكن لا تبلغه عقول الرّجال”कोई चीज़ ऐसी नहीं है कि जिसके बारे में दो लोगों के बीच मतभेद हो और अल्लाह तआला की किताब में उसका मौलिक हल मौजूद न हो लेकिन लोगों की बुद्धि उसे समझने में नाकाम हैं। (उसूले काफ़ी बाबुर्रद्दे इलल किताबे वस-सुन्नः  हदीस 6)(इसलिए क़ुरआन मजीद के ऐसे एक्सपर्ट भाष्यकारों की आवश्यकता है जो क़ुरआन के वास्तविकता से अवगत हों) इमामों की निगाह में क़ुरआन मजीद को इस सीमा तक मौलिक हैसियत हासिल है कि हदीसों के सही होने की शर्त यह है कि क़ुरआन मजीद के अनुसार हो इसलिए अगर कोई हदीस इस आधार पर खरी न उतरे और क़ुरआन मजीद से मेल न खाती हो तो उसे स्वीकार नहीं किया जा सकता है इसलिए इमाम जाफ़र सादिक़ (अ.) ने फ़रमायाःما وافق كتاب اللّه فخذوه، و ما خالف كتاب اللّه فدعوهजो हदीस अल्लाह की किताब से मेल खाती हो उसे ले लो और जो अल्लाह की किताब से टकराती हो उसे छोड़ दो।(उसूले काफ़ी भाग 1 बाबुस अख़्ज़े बिस्सुन्नः और शवाहिदिल किताब भाग 1)दूसरे स्थान पर आपने फ़रमाया:ما لم يوافق من الحديث القرآن، فهو زخرفजो हदीस क़ुरआन मजीद से मेल न खाती हो वह किसी काम की नहीं  है।(पिछला रिफ़रेंस भाग 4)



आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

इमाम हसन असकरी अ.स. की ज़िंदगी पर एक निगाह अमेरिका का युग बीत गया, पश्चिम एशिया से विदाई की तैयारी कर ले : मेजर जनरल मूसवी सऊदी अरब ने यमन के आगे घुटने टेके, हुदैदाह पर हमले रोकने की घोषणा। ईरान को दमिश्क़ से निकालने के लिए रूस को मनाने का प्रयास करेंगे : अमेरिका आईएसआईएस आतंकियों का क़ब्रिस्तान बना पूर्वी दमिश्क़ का रेगिस्तान,30 आतंकी हलाक ग़ज़्ज़ा, प्रतिरोधी दलों ने ट्रम्प की सेंचुरी डील की हवा निकाली : हिज़्बुल्लाह सऊदी ने स्वीकारी ख़ाशुक़जी को टुकड़े टुकड़े करने की बात । आईएसआईएस समर्थक अमेरिकी गठबंधन ने दैरुज़्ज़ोर पर प्रतिबंधित क्लिस्टर्स बम बरसाए । अवैध राष्ट्र में हलचल, लिबरमैन के बाद आप्रवासी मामलों की मंत्री ने दिया इस्तीफ़ा फ़्रांस और अमेरिका की ज़ुबानी जंग तेज़, ग़ुलाम नहीं हैं हम, सभ्यता से पेश आएं ट्रम्प : मैक्रोन बीवी क्या करे कि घर जन्नत की मिसाल हो ज़ायोनी युद्ध मंत्री लिबरमैन का इस्तीफ़ा, ग़ज़्ज़ा की राजनैतिक जीत : हमास अमेरिका की चीन को धमकी, हमारी मांगे नहीं मानी तो शीत युद्ध के लिए रहो तैयार देश को मुश्किलों से उभारना है तो राष्ट्रीय क्षमताओं का सही उपयोग करना होगा : आयतुल्लाह ख़ामेनई अय्याश सऊदी युवराज मोहम्मद बिन सलमान है ग़ज़्ज़ा पर वहशियाना हमलों का मास्टर माइंड : मिडिल ईस्ट आई