Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 183497
Date of publication : 20/9/2016 6:37
Hit : 282

बश्शार असदः

सीरियाई सेना पर अमेरिकी हमला, शर्मनाक और आईएस का खुला समर्थन।

सीरिया के राष्ट्रपति बश्शार असद ने सोमवार को दमिश्क में ईरान के उप विदेश मंत्री हुसैन जाबिर अंसारी से मुलाकात में कहा कि पश्चिम की बड़ी शक्तियां सीरिया में सक्रिय आतंकवादियों का समर्थन कर रही हैं.......

विलायत पोर्टलः सीरिया के राष्ट्रपति बश्शार असद ने सोमवार को दमिश्क में ईरान के उप विदेश मंत्री हुसैन जाबिर अंसारी से मुलाकात में कहा कि पश्चिम की बड़ी शक्तियां सीरिया में सक्रिय आतंकवादियों का समर्थन कर रही हैं। सीरिया के राष्ट्रपति ने कहा कि उनके समर्थन का ताज़ा उदाहरण दैरुज़्ज़ूर में सीरियाई सेना के ठिकाने पर अमेरिका और उसके सहयोगियों का शर्मनाक हमला है। उन्होंने कहा कि इस हमले से आईएस को फायदा पहुंचाया गया है। बश्शार असद ने कहा कि सीरियाई सरकार के विरोधी गुट अपनी सारी ऊर्जा इस बात पर ख़र्च कर रहे हैं कि सीरिया में आतंकी वारदातें जारी रहें। उनका कहना था कि जब भी सीरिया युद्ध के मैदान या राष्ट्रीय संधि वार्ता में सफलता प्राप्त करता है दमिश्क सरकार के विरोधी देश आतंकवादियों के प्रति अपने समर्थन में बढ़ोत्तरी कर देते हैं। सीरिया के राष्ट्रपति बश्शार अल असद ने यह बयान एक ऐसे समय दिया है जब ब्रिटिश रक्षा मंत्रालय ने सोमवार को अपने बयान में कहा है कि दैरुज़्ज़ूर में सीरियाई सेना के ठिकाने पर हमले में उसके युद्धक विमानों ने भी हिस्सा लिया था। दमिश्क में होने वाली इस बैठक में ईरान के उप विदेश मंत्री हुसैन जाबिर अंसारी ने भी दैरुज़्ज़ूर में सीरियाई सेना के ठिकाने पर अमेरिका और उसके सहयोगियों के हमले की निंदा करते हुए इसे एक स्वतंत्र और संप्रभु राष्ट्र के खिलाफ खुली आक्रामकता बताया।
अबना


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

पैग़म्बर स.अ. की सीरत और इमाम ख़ुमैनी र.अ. की विचारधारा शिम्र मर गया तो क्या हुआ, नस्लें तो आज भी बाक़ी है!! इमाम ख़ुमैनी र.ह. और इस्लामी इंक़ेलाब की लोकतांत्रिक जड़ें हज़रत फ़ातिमा ज़हरा स.अ. के घर में आग लगाने वाले कौन थे? अहले सुन्नत की किताबों से एक बेटी ऐसी भी.... फ़र्ज़ी यूनिवर्सिटी स्थापित कर भारतीय छात्रों को गुमराह कर रही है अमेरिकी सरकार । वह एक मां थी... क़ुर्आन को ज़हर बता मस्जिदें बंद कराने का दम भरने वाले डच नेता ने अपनाया इस्लाम । तुर्की के सहयोग से इदलिब पहुँच रहे हैं हज़ारो आतंकी । आयतुल्लाह सीस्तानी की दो टूक , इराक की धरती को किसी भी देश के खिलाफ प्रयोग नहीं होने देंगे । ईरान विरोधी किसी भी सिस्टम का हिस्सा नहीं बनेंगे : इराक सीरिया की शांति और स्थायित्व ईरान का अहम् उद्देश्य, दमिश्क़ और तेहरान के संबंधों में और मज़बूती के इच्छुक : रूहानी आयतुल्लाह सीस्तानी से मुलाक़ात के लिए संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नजफ़ पहुंची इस्लामी इंक़ेलाब की सुरक्षा ज़रूरी , आंतरिक और बाह्र्री दुश्मन कर रहे हैं षड्यंत्र : आयतुल्लाह जन्नती आख़ेरत में अंधेपन का क्या मतलब है....