Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 183427
Date of publication : 14/9/2016 17:23
Hit : 282

अमेरीका, इस्राईल की अभूतपूर्व फ़ौजी मदद कर रहा है।

बराक ओबामा की सरकार अमेरीकी इतिहास में इस्राईल की सबसे बड़ी फ़ौजी मदद करने वाली सरकार बन गई है। अमेरीका ज़ायोनी शासन के साथ 10 महीने की बातचीत के बाद अगले 10 साल के लिए इस्राईल को 38 अरब डॉलर की फ़ौजी मदद देने के लिए तय्यार हो गया है।


विलायत पोर्टलः बराक ओबामा की सरकार अमेरीकी इतिहास में इस्राईल की सबसे बड़ी फ़ौजी मदद करने वाली सरकार बन गई है। अलआलम के अनुसार, अमेरीका ज़ायोनी शासन के साथ 10 महीने की बातचीत के बाद अगले 10 साल के लिए इस्राईल को 38 अरब डॉलर की फ़ौजी मदद देने के लिए तय्यार हो गया है। इस समय अमेरीका इस्राईल को 3.1 अरब डॉलर सालाना सैन्य मदद दे रहा है और अब यह मदद बढ़ कर 3.8 अरब डॉलर हो जाएगी। ज़ायोनी शासन को अमरीका की तरफ़ से फ़ौजी मदद का समझौता 2018 में ख़त्म हो रहा है और उसकी जगह पर नया समझौता लागू होगा जो अमेरीका के इतिहास में फ़ौजी मदद का सबसे बड़ा एकपक्षीय वादा है। इस समझौते के आधार पर, अमेरीका की तरफ़ से फ़ौजी मदद में ज़ायोनी शासन को मीज़ाईल रक्षा तंत्र भी शामिल है जिसकी क़ीमत 50 करोड़ डॉलर है। बराक ओबामा ने इस समझौते के ज़रिए ज़ायोनी शासन की तरफ़ से अपनी सरकार की आलोचना को ख़त्म करने की कोशिश की है। ज़ायोनी शासन की तरफ़ से ओबामा सरकार की आलोचना इस सीमा तक बढ़ गई थी कि ज़ायोनी प्रधान मंत्री बिनयामिन नेतनयाहू ने अमेरीका में राष्ट्रपति पद के चुनाव के बाद नए सैन्य समझौते पर दस्तख़त करने का इरादा किया था ताकि नए अमेरीकी राष्ट्रपति से ज़्यादा मदद हासिल कर सकें।
.....................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

हश्दुश शअबी का आरोप , आईएसआईएस को इराकी बलों की गोपनीय जानकारी पहुंचाता था अमेरिका ईरान के पयाम सैटेलाइट ने इस्राईल और अमेरिका को नई चिंता में डाला सीरिया की स्थिरता और सुरक्षा, इराक की सुरक्षा का हिस्सा : बग़दाद आले सऊद की नई करतूत , सऊदी अरब में खुले नाइट कलब और कैसीनो । अमेरिका ने सीरिया से भाग कर ईरान, रूस और बश्शार असद को शक्तिशाली किया । ज़ुबान के इस्तेमाल के फ़ायदे और नुक़सान । सीरिया के विभाजन की साज़िश नाकाम, अमेरिका ने कुर्दों को दिया धोखा । सीरिया में अमेरिका का स्थान लेंगी मिस्र और संयुक्त अरब अमीरात की सेना । बैतुल मुक़द्दस से उठने वाली अज़ान की आवाज़ पर लगेगी पाबंदी । दमिश्क़ की ओर पलट रहे हैं अरब देश, इस्राईल हारा हुआ जुआरी : ज़ायोनी टीवी शहीद बाक़िर अल निम्र, वह शेर मर्द जिसका नाम सुनकर आज भी लरज़ जाते हैं आले सऊद बश्शार असद की हत्या ज़ायोनी चीफ ऑफ स्टाफ की पहली प्राथमिकता ? यमन के सक़तरी द्वीप पर संयुक्त अरब अमीरात की नज़र क़तर के पूर्व नेता का सवाल, सऊदी अरब में कोई बुद्धिमान है जो सोच विचार कर सके ? अंसारुल्लाह का आरोप , यमन के लिए दूषित भोजन खरीद रहा है डब्ल्यू.एच.पी