Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 183345
Date of publication : 8/9/2016 19:29
Hit : 273

अमेरिका ने सऊदी अरब को 115 अरब डॉलर के हथियारों की पेशकश की।

रोइटर्ज़ ने एक ख़ुफ़िया दस्तावेज के हवाले से रिपोर्ट दी है कि यह प्रस्ताव अमेरिका की ओर से सऊदी अरब को हथियार बेचने की सबसे बड़ी पेशकश है और पिछले 71 वर्षों में अमेरिका ने यह सबसे बड़ी पेशकश की है। हथियारों की खरीद में सैनिकों को प्रशिक्षण देना भी शामिल होता है।............

विलायत पोर्टलः रोइटर्ज़ ने एक ख़ुफ़िया दस्तावेज के हवाले से रिपोर्ट दी है कि यह प्रस्ताव अमेरिका की ओर से सऊदी अरब को हथियार बेचने की सबसे बड़ी पेशकश है और पिछले 71 वर्षों में अमेरिका ने यह सबसे बड़ी पेशकश की है। हथियारों की खरीद में सैनिकों को प्रशिक्षण देना भी शामिल होता है।अमेरिका के इंटरनेशनल पालीटिक सेंटर से विलियम हारटिंग ने यह रिपोर्ट तैयार की है उसमें 42 अलग अलग समझौतों की बात कही गई है जिसमें असली समझौता सऊदी अरब को नहीं भेजा गया है। हारटिंग ने रोइटर्ज़ को बताया कि यह रिपोर्ट आठ सितंबर को प्रकाशित होगी। हारटिंग की रिपोर्ट का आधार, अमेरिका की सुरक्षा और रक्षा सहयोग एजेंसी द्वारा उपलब्ध जानकारी है।रोइटर्ज़ की रिपोर्ट के अनुसार 2009 में जब से राष्ट्रपति ओबामा ने सत्ता संभाली है अमेरिका ने सऊदी अरब को हर तरह के हथियार बेचने की पेशकश की है, उनमें हल्के हथियारों से लेकर टैंक, गनशिप हेलिकॉप्टर जमीन से हवा में मार करने वाली मिसाइल, नौसेना युद्धपोतों की रक्षा के लिए मिसाइल आदि शामिल हैं।वाशिंगटन ने सऊदी अरब की सेना को इन हथियारों के चलाने और उनकी देखभाल का प्रशिक्षण भी देने की बात की है। हारटिंग ने कहा कि अब समय आ गया है कि ओबामा प्रशासन के पास अच्छा मौका है कि अमेरिका से सऊदी अरब के सैन्य और राजनीतिक सम्बंध से यमन युद्ध में लाभ उठाए।गौरतलब है कि ओबामा प्रशासन ने घोषणा की है कि उसने सऊदी अरब के हाथों एक अरब डॉलर पन्द्रह करोड़ के हथियार बेचे हैं। मानवाधिकार संगठनों ने वाशिंगटन में विरोध प्रदर्शन करके अमेरिका की ओर से सऊदी अरब के लिए हथियारों की बिक्री की निंदा की है।
अबना


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

बर्नी सैंडर्स की मांग, सऊदी तानाशाही की नकेल कसे विश्व समुदाय । ईरान विरोधी बैठकों से कुछ हासिल नहीं, यादगारी तस्वीरें लेते रहे नेतन्याहू । हसन नसरुल्लाह का लाइव इंटरव्यू होगा प्रसारित,सऊदी इस्राईली मीडिया की हवा निकली । आले ख़लीफ़ा का यूटर्न , कभी भी दमिश्क़ विरोधी नहीं था बहरैन इदलिब , नुस्राह फ्रंट के ठिकानों पर रूस की भीषण बमबारी । हश्दुश शअबी की कड़ी चेतावनी, आग से न खेले तल अवीव,इस्राईल की ईंट से ईंट बजा देंगे । दमिश्क़ पर फिर हमला, ईरानी हित थे निशाने पर, जौलान हाइट्स पर सीरिया ने की जवाबी कार्रवाई । नहीं सुधर रहा इस्राईल, दमिश्क़ के उपनगरों पर फिर किया हमला। अमेरिका में गहराता शटडाउन संकट, लोगों को बेचना पड़ रहा है घर का सामान । हसन नसरुल्लाह ने इस्राईली मीडिया को खिलौना बना दिया, हिज़्बुल्लाह की स्ट्रैटजी के आगे ज़ायोनी मीडिया फेल । रूस और ईरान के दुश्मन आईएसआईएस को मिटाना ग़लत क़दम होगा : ट्रम्प फ़िलिस्तीनी जनता के ख़ून से रंगे हैं हॉलीवुड सितारों के हाथ इदलिब और हलब में युद्ध की आहट, सीरियन टाइगर अपनी विशेष फोर्स के साथ मोर्चे पर पहुंचे । देश छोड़ कर भाग रहे हैं सऊदी नागरिक , शरण मांगने वालों के संख्या में 318% बढ़ोत्तरी । इराक सेना अलर्ट पर किसी भी समय सीरिया में छेड़ सकती है सैन्य अभियान ।