Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 183345
Date of publication : 8/9/2016 19:29
Hit : 265

अमेरिका ने सऊदी अरब को 115 अरब डॉलर के हथियारों की पेशकश की।

रोइटर्ज़ ने एक ख़ुफ़िया दस्तावेज के हवाले से रिपोर्ट दी है कि यह प्रस्ताव अमेरिका की ओर से सऊदी अरब को हथियार बेचने की सबसे बड़ी पेशकश है और पिछले 71 वर्षों में अमेरिका ने यह सबसे बड़ी पेशकश की है। हथियारों की खरीद में सैनिकों को प्रशिक्षण देना भी शामिल होता है।............

विलायत पोर्टलः रोइटर्ज़ ने एक ख़ुफ़िया दस्तावेज के हवाले से रिपोर्ट दी है कि यह प्रस्ताव अमेरिका की ओर से सऊदी अरब को हथियार बेचने की सबसे बड़ी पेशकश है और पिछले 71 वर्षों में अमेरिका ने यह सबसे बड़ी पेशकश की है। हथियारों की खरीद में सैनिकों को प्रशिक्षण देना भी शामिल होता है।अमेरिका के इंटरनेशनल पालीटिक सेंटर से विलियम हारटिंग ने यह रिपोर्ट तैयार की है उसमें 42 अलग अलग समझौतों की बात कही गई है जिसमें असली समझौता सऊदी अरब को नहीं भेजा गया है। हारटिंग ने रोइटर्ज़ को बताया कि यह रिपोर्ट आठ सितंबर को प्रकाशित होगी। हारटिंग की रिपोर्ट का आधार, अमेरिका की सुरक्षा और रक्षा सहयोग एजेंसी द्वारा उपलब्ध जानकारी है।रोइटर्ज़ की रिपोर्ट के अनुसार 2009 में जब से राष्ट्रपति ओबामा ने सत्ता संभाली है अमेरिका ने सऊदी अरब को हर तरह के हथियार बेचने की पेशकश की है, उनमें हल्के हथियारों से लेकर टैंक, गनशिप हेलिकॉप्टर जमीन से हवा में मार करने वाली मिसाइल, नौसेना युद्धपोतों की रक्षा के लिए मिसाइल आदि शामिल हैं।वाशिंगटन ने सऊदी अरब की सेना को इन हथियारों के चलाने और उनकी देखभाल का प्रशिक्षण भी देने की बात की है। हारटिंग ने कहा कि अब समय आ गया है कि ओबामा प्रशासन के पास अच्छा मौका है कि अमेरिका से सऊदी अरब के सैन्य और राजनीतिक सम्बंध से यमन युद्ध में लाभ उठाए।गौरतलब है कि ओबामा प्रशासन ने घोषणा की है कि उसने सऊदी अरब के हाथों एक अरब डॉलर पन्द्रह करोड़ के हथियार बेचे हैं। मानवाधिकार संगठनों ने वाशिंगटन में विरोध प्रदर्शन करके अमेरिका की ओर से सऊदी अरब के लिए हथियारों की बिक्री की निंदा की है।
अबना


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

क़तर का बड़ा क़दम, ईरान और दमिश्क़ समेत 5 देशों का गठबंधन बनाने की पेशकश एमनेस्टी इंटरनेशनल ने आंग सान सू ची से सर्वोच्च सम्मान वापस लिया ईरान की सैन्य क्षमता को रोकने में असफल रहेंगे अमेरिकी प्रतिबंध : एडमिरल हुसैन ख़ानज़ादी फिलिस्तीन, ज़ायोनी हमलों में 15 शहीद, 30 से अधिक घायल ग़ज़्ज़ा में हार से बौखलाए ज़ायोनी राष्ट्र ने हिज़्बुल्लाह को दी हमले की धमकी आले सऊद ने अब ट्यूनेशिया में स्थित सऊदी दूतावास में पत्रकार को बंदी बनाया मैक्रॉन पर ट्रम्प का कड़ा कटाक्ष, हम न होते तो पेरिस में जर्मनी सीखते फ़्रांस वासी इस्राईल शांति चाहता है तो युद्ध मंत्री लिबरमैन को तत्काल बर्खास्त करे : हमास हश्दुश शअबी ने सीरिया में आईएसआईएस के खिलाफ अभियान छेड़ा, कई ठिकानों को किया नष्ट ग़ज़्ज़ा पर हमले न रुके तो तल अवीव को आग का दरिया बना देंगे : नौजबा मूवमेंट यमन और ग़ज़्ज़ा पर आले सऊद और इस्राईल के बर्बर हमले जारी फिलिस्तीनी दलों ने इस्राईल के घमंड को तोडा, सीमा पर कई आयरन डॉम तैनात अज़ादारी और इंतेज़ार का आपसी रिश्ता रूस इस्लामी देशों के साथ मधुर संबंध का इच्छुक : पुतिन आले खलीफा शासन ने 4 नागरिकों को मौत की सजा सुनाई