Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 183336
Date of publication : 7/9/2016 20:56
Hit : 299

सऊदी मुफ़्ती का नया फतवा, ईरानी मुसलमान नहीं..!!

सऊदी अरब के सरकारी मुफ्ती ने हज के बारे में ईरान के सुप्रीम लीडर के संदेश पर प्रतिक्रिया प्रकट करते हुए कहा है कि ईरानी मुसलमान ही नहीं हैं।
विलायत पोर्टलः सऊदी अरब के सरकारी मुफ्ती ने हज के बारे में ईरान के सुप्रीम लीडर के संदेश पर प्रतिक्रिया प्रकट करते हुए कहा है कि ईरानी मुसलमान ही नहीं हैं। इस्लामी रिवाल्यूशन के सुप्रीम लीडर आयतुल्लाहिल उज़मा सैयद अली ख़ामेनई के हज संदेश पर सऊदी शासकों ने तीखी प्रतिक्रिया जताई की है जिसके बाद सऊदी अरब के सरकारी वह्हाबी मुफ्ती अब्दुल अज़ीज़ बिन अब्दुल्लाह आले शेख ने मक्का समाचार पत्र से एक बातचीत में ईरान के सुप्रीम लीडर को इस्लाम का "शत्रु"  बताया और दावा किया कि उनका बयान, सुन्नी मुसलमानों से विरोध का कारण है। सऊदी अरब के सरकारी मुफ्ती ने हज के बारे में ईरान के सुप्रीम लीडर के संदेश पर प्रतिक्रिया जताते करते हुए कहा है कि ईरानी मुसलमान ही नहीं हैं। ................तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

क़तर का बड़ा क़दम, ईरान और दमिश्क़ समेत 5 देशों का गठबंधन बनाने की पेशकश एमनेस्टी इंटरनेशनल ने आंग सान सू ची से सर्वोच्च सम्मान वापस लिया ईरान की सैन्य क्षमता को रोकने में असफल रहेंगे अमेरिकी प्रतिबंध : एडमिरल हुसैन ख़ानज़ादी फिलिस्तीन, ज़ायोनी हमलों में 15 शहीद, 30 से अधिक घायल ग़ज़्ज़ा में हार से बौखलाए ज़ायोनी राष्ट्र ने हिज़्बुल्लाह को दी हमले की धमकी आले सऊद ने अब ट्यूनेशिया में स्थित सऊदी दूतावास में पत्रकार को बंदी बनाया मैक्रॉन पर ट्रम्प का कड़ा कटाक्ष, हम न होते तो पेरिस में जर्मनी सीखते फ़्रांस वासी इस्राईल शांति चाहता है तो युद्ध मंत्री लिबरमैन को तत्काल बर्खास्त करे : हमास हश्दुश शअबी ने सीरिया में आईएसआईएस के खिलाफ अभियान छेड़ा, कई ठिकानों को किया नष्ट ग़ज़्ज़ा पर हमले न रुके तो तल अवीव को आग का दरिया बना देंगे : नौजबा मूवमेंट यमन और ग़ज़्ज़ा पर आले सऊद और इस्राईल के बर्बर हमले जारी फिलिस्तीनी दलों ने इस्राईल के घमंड को तोडा, सीमा पर कई आयरन डॉम तैनात अज़ादारी और इंतेज़ार का आपसी रिश्ता रूस इस्लामी देशों के साथ मधुर संबंध का इच्छुक : पुतिन आले खलीफा शासन ने 4 नागरिकों को मौत की सजा सुनाई