Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 183186
Date of publication : 18/8/2016 10:24
Hit : 274

बहरैन: शेख ईसा मोमिन के विरूद्ध मामले की सुनवाई स्थगित कर दी गई।

बहरैन में आले खलीफा सरकार की अदालत ने मजलिसे उल्मा-ए-इस्लामी के सांस्कृतिक विभाग के प्रमुख और अल-दैर के इमामे जुमा के खिलाफ़ मामले की सुनवाई के दौरान....................



विलायत पोर्टलः प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार बहरैन में आले खलीफा सरकार की अदालत ने मजलिसे उल्मा-ए-इस्लामी के सांस्कृतिक विभाग के प्रमुख और अल-दैर के इमामे जुमा के खिलाफ़ मामले की सुनवाई के दौरान बुधवार को घोषणा की कि शेख ईसा मोमिन के विरूद्ध मामले की सुनवाई इक्कीस अगस्त तक स्थगित की जाती है। बहरैन की आले खलीफा सरकार ने उन्हें निराधार आरोपों के तहत हिरासत में ले रखा है। गौरतलब है कि पिछले महीनों के दौरान बहरैन की सरकार को देश के प्रमुख धर्मगुरू आयतुल्लाह शेख ईसा कासिम की नागरिकता छीने जाने पर बहरैनी जनता की कड़ी प्रतिक्रिया का सामना करना पड़ा है फिर भी आले ख़लीफा की तानाशाह सरकार ने अपनी आक्रामक नीतियां जारी रखते हुए बहरैन के कई उलमा को हिरासत में ले लिया है।
अबना


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

इदलिब की आज़ादी प्राथमिकता, अतिक्रमणकारियों को सीरिया से भागना ही होगा : दमिश्क़ हाउस ऑफ़ लॉर्ड्स की मांग, अमेरिका से राजनैतिक संबद्धता कम करे इंग्लैंड। अवैध राष्ट्र ने लगाई गुहार, लेबनान सेना पर दबाव बनाए अमेरिका । अमेरिकी गठबंधन आतंकी संगठनों की मदद से सीरिया के तेल संपदा को लूटने में व्यस्त । मासूमा ए क़ुम स.अ. की शहादत के शोक में डूबा ईरान, क़ुम समेत देश भर में मातम । अमेरिका ने स्वीकारा, असद को पदमुक्त करना उद्देश्य नहीं । सिर्फ दो साल, और साठ हज़ार लोगों की जान ले चुका है यमन संकट । हमास ने दिया इस्राईल को गहरा झटका, पकडे गए ड्रोन विमानों का क्लोन बनाया । आले सऊद की काली करतूत, क़तर पर हमला कर हड़पने की साज़िश का भंडाफोड़ । रूस मामलों में पोम्पियो की कोई हैसियत नहीं, अमेरिका की विदेश नीति का भार जॉन बोल्टन के कंधों पर : लावरोफ़ सऊदी अरब की सैन्य टुकड़ियां हैं आईएसआईएस और नुस्राह फ्रंट । ज़ायोनी सेना की गतिविधियां तेज़, लेबनान सेना ने अलर्ट । अय्याश सऊदी युवराज और मोहमद बिन ज़ायद पॉप गायिका मैडोना की राह पर, ली क़बालाह की शरण ईरान फ़ातेह और सहंद के बाद विशालकाय पनडुब्बी बनाने के लिए तैयार। इमाम हसन असकरी अ.स. के बाद सामने आने वाले फ़िर्क़े