Saturday - 2018 April 21
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 183182
Date of publication : 18/8/2016 8:38
Hit : 316

क़ुरआन को दिल से स्वीकार कीजीए।

क़ुरआन से मार्गदर्शन लेने के लिये ज़रूरी है कि इंसान अपने दिल से शैतानी प्रलोभन को दूर करे और शुद्ध मन और पाक दिल के साथ क़ुरआन से मार्गदर्शन लेने की कोशिश करे। हज़रत अली अ. मुसलमानों और दुनिया व आख़ेरत के सौभाग्य के इच्छुक लोगों को वसीयत करते हैं कि क़ुरआन को अपना रहनुमा और मार्गदर्शक बनाएं................................


विलायत पोर्टलः क़ुरआन से मार्गदर्शन लेने के लिये ज़रूरी है कि इंसान अपने दिल से शैतानी प्रलोभन को दूर करे और शुद्ध मन और पाक दिल के साथ क़ुरआन से मार्गदर्शन लेने की कोशिश करे। हज़रत अली अ. मुसलमानों और दुनिया व आख़ेरत के सौभाग्य के इच्छुक लोगों को वसीयत करते हैं कि क़ुरआन को अपना रहनुमा और मार्गदर्शक बनाएं और उसकी नसीहतों और उपदेशों पर ध्यान दें इसलिए कि
اِنَّ هذَا الْقُرآنَ يَهْدِيْ لِلَّتِي هِيَ اَقوَمُ وَ يُبَشِّرُ المُومِنِينَ الَّذِينَ يَعمَلُونَ الصَّالِحَاتِ اَنَّ لَهُم اَجرًا کَبِيراً
बेशक यह क़ुरआन उस रास्ते की हिदायत करता है जो बिल्कुल सीधा है और उन ईमान वालों को बशारत देता है जो अच्छे काम करते हैं कि उनके के लिए बहुत बड़ा इनाम है।
जिस बात पर यहाँ पर ध्यान देने की ज़रूरत है वह यह है कि इस आयत पर दिल व जान से ईमान और विश्वास रखना वाजिब है, क्योंकि जब तक कि क़ुरआन के बारे में यह विश्वास और ईमान इंसान की आत्मा पर प्रभावी न हो और जब तक इंसान अपने को सही तरह से अल्लाह के अधिकार में न दे और अपने को ग़लत विचारों, स्वार्थ और वासना से पाक व साफ न करे हर पल संभव है शैतानी प्रलोभन के जाल में फंस जाए और गुमराह हो और हो जाए, फिर जब भी क़ुरआन से सम्पर्क करेगा तो न चाहते हुए भी क़ुरआन में ऐसे मतलब ढूंढने की कोशिश करेगा जो कि उसकी इच्छाओं से मेल खाते हों।
स्पष्ट है कि क़ुरआन के सभी आदेशों और नियम इंसान की इच्छा, वासना और पाशविक रूझान के अनुसार नही हैं। इंसान अपनी इच्छा के अनुसार कुछ करना चाहता है और साथ साथ चाहता है कि क़ुरआन भी उसकी इच्छा के अनुसार हो, इसी क़ुरआन की अपनी इच्छा के अनुसार व्याख्या करता है। जबकि हमें वह करना चाहिए जो क़ुरआन चाह रहा है हमको अपनी इच्छा को क़ुरआन के अनुसार करना चाहिए न कि क़ुरआन को अपनी इच्छानुसार।


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :