Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 183147
Date of publication : 13/8/2016 11:57
Hit : 259

इमाम रेज़ा अ. की ज़ियारत का सवाब

चांद के ग्यारहवें महीने ज़ीक़ाद की 11 तारीख़ इमाम रेज़ा अ. के शुभ जन्मदिवस की तारीख़ है और इसी महीने की पहली तारीख़ को आपकी बहन हज़रत मासूमा-ए-क़ुम का जन्म हुआ। इन दोनों भाई बहन का मज़ार चूंकि ईरान में इसलिए ईरान में पूरे दस ग्यारह दिन अशरा-ए-करामत (नेकी और उदारता के दस दिन) के नाम से जश्न मनाया जाता है और एक ख़ास रंग और माहौल होता है इन दोनों हस्तियों के रौज़ों पर।


चांद के ग्यारहवें महीने ज़ीक़ाद की 11 तारीख़ इमाम रेज़ा अ. के शुभ जन्मदिवस की तारीख़ है और इसी महीने की पहली तारीख़ को आपकी बहन हज़रत मासूमा-ए-क़ुम का जन्म हुआ। इन दोनों भाई बहन का मज़ार चूंकि ईरान में इसलिए ईरान में पूरे दस ग्यारह दिन अशरा-ए-करामत (नेकी और उदारता के दस दिन) के नाम से जश्न मनाया जाता है और एक ख़ास रंग और माहौल होता है इन दोनों हस्तियों के रौज़ों पर। 
दोनों का रौज़ा बहुत ही आलीशान है, विशेषकर आठवें इमाम के रौज़े की विशालता, उसकी इस्लामी बनावट और आध्यात्मिकता देखकर इंसान वास्तव में दंग रह जाता है। सैभाग्यशाली है वह मोमिनीन जिन्हें इमाम रेज़ा अ. की ज़ियारत नसीब हो चुकी है, अल्लाह उनकी ज़ियारत को क़बूल करे और जिन्हें अब तक यह अवसर नहीं मिला है, अल्लाह उनके लिए भी ज़ियारत के रास्ते आसान करे। क्योंकि इमाम रेज़ा अ. की ज़ियारत की बहुत सिफ़ारिश की गई हैः
1.    इमाम बाक़िर अ. अमीरुल मोमिनीन अ. के हवाले से बयान करते हैं कि अल्लाह के रसूल स. ने फ़रमाया: खुरासान में मेरा एक दिल का टुकड़ा दफ़्न होगा, जो भी ग़म का मारा उसकी ज़ियारत को जाएगा उसकी परेशानी और ग़म दूर होगा, जो गुनहगार उसकी ज़ियारत करेगा उसे माफ़ कर दिया जाएगा। (उयूनो अख़बारिर् रेज़ा, भाग 2, पेज 257)
2.    इमाम रेज़ा अ. के एक सहाबी बज़ंती कहते हैं: आपने फ़रमाया: मेरा जो चाहने वाला भी मेरी सही पहचान के साथ मेरी ज़ियारत के लिए आएगा, मैं क़यामत के दिन उसकी शिफ़ाअत करूंगा। (अमाली-ए-सदूक़ पेज 119)
3.    शाह अब्दुल अज़ीम हसनी कहते हैं: इमाम मोहम्मद तक़ी अ. की सेवा में पहुंचा और पूछा कि मौला आपके दादा इमाम हुसैन अ. की ज़ियारत को जाऊं या आपके वालिद की? इमाम अ. ने कहा: मेरे बाबा की ज़ियारत को जाओ क्योंकि मेरे दादा इमाम हुसैन अ. के ज़ाएरीन की संख्या बहुत ज़्यादा है और उन सभी उनकी ज़ियारत को जाते हैं लेकिन मेरी बाबा की ज़ियारत केवल शिया करते हैं। (उयूनो अख़बारिर् रेज़ा, सी 2, पी 256)
4.    इमाम अली नक़ी फ़रमाते हैं: जिसकी जो हाजत है वह अपनी हाजत लेकर मेरे दादा अली इब्ने मूसा रेज़ा अ. की ज़ियारत को जाए। उसकी जो हाजत होगी पूरी होगी। इस शर्त के साथ कि किसी गुनाह की दुआ न करे (वसाएलुश्शिया, जिल्द 14, स 499)
5.इमाम सादिक अ. ने फ़रमाया: जो भी सही पहचान के साथ मेरे उस पोते की ज़ियारत करेगा जिसे खुरासान में दफ़नाया जाएगा उसका सवाब उन शहीदों के बराबर है जो रसूले ख़ुदा स. के  साथ रह कर शहीद हुए। (मन ला यहज़ोरहुल फ़क़ीह, जिल्द 2 पेज 584)
आठवें इमाम इमाम रेज़ा अ. की बारगाह जन्नत का एक टुकड़ा है, यहाँ टूटे दिलों को आराम मिलता है, यहाँ दुआएं क़बूल होती हैं, यहां मन्नतें पूरी की जाती हैं, यहां शारीरिक और आध्यात्मिक बीमारों का इलाज होता है, अल्लाह के फ़रिश्ते इमाम के ज़ाएरों का स्वागत करते हैं, यहां लोगों के भाग्य संवरते हैं।



आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

जमाल ख़ाशुक़जी हत्याकांड पर दबाव बढ़ा तो ट्रम्प के लिए संकट खड़ा कर सकता है बिन सलमान ! ज़ायरीन को निशाना बनाने के लिए महिलाओं की वेशभूषा में आए संदिग्ध गिरफ्तार ट्रम्प की ईरान विरोधी नीतियों ने सऊदी अरब को दुस्साहस दिया, सऊदी राजदूतों को देश निकाला दिया जाए । कर्बला से ज़ुल्म के ख़िलाफ़ डट कर मुक़ाबले की सीख मिलती है... अफ़ग़ान युद्ध की दलदल से निकलने के लिए हाथ पैर मार रहा है अमेरिका : वीकली स्टैंडर्ड ईरान में घुसपैठ करने की हसरत पर फिर पानी, आईएसआईएस पर सेना का कड़ा प्रहार ईरान से तेल आयात जारी रखेगा श्रीलंका, भारत की सहायता से अमेरिकी प्रतिबंधों से छूट पाने में जुटा ड्रामा बंद करे आले सऊद, ट्रम्प और जॉर्ड किश्नर को खरीदा होगा अमेरिका को नहीं : टेड लियू ज़ायोनी सैनिकों ने किया क़ुद्स के गवर्नर का अपहरण ट्रम्प ने दी बिन सलमान को क्लीन चिट, हथियार डील नहीं होगी रद्द रूस के कड़े तेवर, एकध्रुवीय दुनिया का सपना देखना छोड़ दे अमेरिका आले सऊद ने अमेरिका के आदेश पर ख़ाशुक़जी के क़त्ल की बात स्वीकारी : मुजतहिद एक पत्रकार की हत्या पर आसमान सर पर उठाने वाला पश्चिमी जगत और अमेरिका यमन पर चुप क्यों ? जमाल ख़ाशुक़जी हत्याकांड में ट्रम्प के दामाद की भूमिका की जांच हो साम्राज्यवाद के मुक़ाबले पर डटा ईरान और ग़ुलामी करते मुस्लिम देशों में ज़मीन आसमान का फ़र्क़ : फहवी हुसैन