×
×
×

इमाम हुसैन अ.स. द्वारा हज़रत ज़ैनब अ. स. का सम्मान

हज़रत ज़ैनब अ.स. की फ़िक्र, आपके अक़वाल और आपकी सीरत में अनेक प्रकार के नैतिक गुण पाए जाते थे जिसको इमाम हुसैन अ. के रवैये से समझा जा सकता है, इमाम हु ...

यज़ीद का दरबार और हज़रत ज़ैनब स.अ. का ख़ुत्बा

ऐ यज़ीद! तू चाहे जितनी मक्कारी और छल कपट कर ले और जितनी चाहे कोशिश कर के देख ले लेकिन तू न हमारी याद लोगों के दिलों से मिटा सकता है और ना ही अल्लाह के ...

मुत्तक़ीन के सिफ़ात इमाम अली अ.स. की निगाह में

ऐ हम्माम केवल ख़ुदा के लिए तक़वा अपनाओ क्योंकि अल्लाह मुत्तक़ी और नेक लोगों को पसंद करता है, इमाम अ.स. ने केवल इतना ही कहा लेकिन हम्माम ने आग्रह किया ...

वहाबियत के बारे में शिया उलेमा के विचार

इमाम ख़ुमैनी नें अपनी वसिय्यत में इस तरह लिखा है कि, हम देख रहे हैं कि शाह फ़हद (उस समय सऊदी का बादशाह) एक ओर हर साल आम जनता का न जाने कितना पैसा क़ुर ...

ज़िंदगी के हर रास्ते में बाधाएं क्यों दिखती हैं

जीवन का सफ़र बहुत लंबा है, हज़ार किलोमीटर का सफ़र भी एक क़दम आगे की ओर बढ़ाने से शुरू होता है, अगर उसी पहले क़दम में वह रास्ता पसंद न हो तो रास्ता बदल ...

क़ब्रिस्तान से नसीहत कैसे हासिल करें?

दुनिया की चकाचौंध में मगन रहने वाले से क़ब्रिस्तान पुकार कर कहता है कि बहुत ज़्यादा ख़ुश मत हो इसलिए कि यहां की ख़ुशी बहुत ज़्यादा दिनों तक बाक़ी रहने ...

क़ब्रिस्तान जाने के फ़ायदे

इमाम अली अ.स. एक हदीस में बयान करते हैं कि अपने मरहूमीन की क़ब्रों पर जाया करो क्योंकि वह तुम्हारे जाने से ख़ुश होते हैं और तुम्हारे नेक कामों से उनके ...

हम क्यों कहते हैं कि जानवरों में भी समझ होती है

पुराने युग में लोग ख़ास कर हज में क़ुर्बानी के मौक़े पर अपने जानवरों के पहचान के लिए उनके चेहरे पर गर्म लोहे से एक निशानी लगा देते थे, पैग़म्बरे इस्ला ...

मृत्यु और उस से डरने का कारण

इस्लामी दुनिया के मशहूर फ़्लासफ़र अल्लामा मुल्ला सदरा का कहना है कि, मौत किसी बुरी चीज़ नाम नहीं है बल्कि यह मरने वाले और दूसरे लोगों के लिए अच्छी चीज ...

मृत्यु और उस से डरने का कारण

इस्लामी दुनिया के मशहूर फ़्लासफ़र अल्लामा मुल्ला सदरा का कहना है कि, मौत किसी बुरी चीज़ नाम नहीं है बल्कि यह मरने वाले और दूसरे लोगों के लिए अच्छी चीज ...

नबियों और इमामों का मासूम होना

अगर वह मासूम न हों तो उन पर (विशेष रूप से अल्लाह की ओर से लाए हुए उसके अहकाम पर) विश्वास नहीं किया जा सकता, और जब विश्वास नहीं होगा तो उनकी बातों पर अ ...

अल्लाह का शैतान को पैदा करने का कारण

इंसान को गुमराह करने और बहकाने में शैतान का रोल और भूमिका केवल यह है कि वह इंसानों को गुनाह की तरफ़ उकसाता और बहकाता है, वरना शैतान किसी को गुनाह करने ...

क्यों कभी कभी हमारी दुआएं क़ुबूल नहीं होतीं

उसूले काफ़ी में दुआ के रद हो जाने का कारण इस प्रकार बयान हुआ है, जो भी हराम तरीक़े से पेट भरेगा या अम्र बिल मारूफ़ और नहि अनिल मुन्कर नहीं करेगा या ख़ ...

हज़रत अबूतालिब अ.स. का ईमान और आपकी वफ़ात

अल्लामा मजलिसी लिखते हैं कि, शिया हज़रत अबू तालिब अ.स. के इस्लाम लाने और अल्लाह और उसके रसूल पर ईमान रखने के सिलसिले में एकमत हैं, उनका मानना है कि आप ...

हज़रत अब्बास अ.स. के नैतिक गुण

आप की एक महत्वपूर्ण विशेषता अल्लाह की राह में जिहाद करना थी, आपने इस्लाम के कठिन दिनों में भी इमाम का साथ दे कर बहुत सी आखों से पर्दे को हटाने की कोशि ...

फॉलो अस
नवीनतम