×
×
×

शहीद एमाद मुग़निया कौन थे?

अगर मैं अपने दूसरे भाईयों को साम्राज्यवाद से लड़ने की दावत दूं और ख़ुद मौत से डर के पीछे पीछे रहूं तो यह इस्लाम के जांबाज़ सिपाहियों के साथ धोखा होगा ...

बुरे दोस्त की पहचान

जब भी आपको लगे कि आपके दोस्त आपका काफ़ी समय बर्बाद कर रहे हैं तो आपका उन दोस्तों से दूर रहना ही उचित है, आपको अपने क़रीब ऐसे दोस्तों को रखना चाहिए जो ...

हज़रत ज़हरा स.अ. का फ़रिश्तों से बातें करना और भविष्य की ख़बरें

मुसहफ़े फ़ातिमा स.अ. में सिर्फ वाजिब और हराम यानी अहकाम को नहीं बयान किया गया है बल्कि भविष्य में इंसान की ज़िंदगी में क्या होने वाला है कैसे हालात प ...

आख़िरी ज़माने की निशानियां पैग़म्बर स.अ. की ज़बानी

पैग़म्बर स.अ. फ़रमाते हैं कि एक दिन आएगा जब अल्लाह के दीन के टुकड़े टुकड़े कर दिए जाएंगे, मेरी सुन्नत को लोग बिदअत समझेंगे और बिदअत को मेरी सुन्नत समझ ...

अच्छे दोस्त की पहचान

दोस्ती का असर हमारी ज़िंदगी पर पड़ता है अगर दोस्त अच्छा हुआ तो उसका अच्छा असर हमारी ज़िंदगी पर पड़ेगा लेकिन कहीं अगर हमारी दोस्ती बुरे लोगों से हुई जि ...

इमाम हुसैन अ.स. की मज़लूमी सुन कर शिया होने वाला इंडोनेशिया का वहाबी परिवार

एक बार मेरे कानों में एक मजलिस की आवाज़ पहुंची जिसमें इमाम हुसैन अ.स. पर होने वाली मुसीबत को बयान किया जा रहा था, मैं सुन कर लरज़ गया, उस से पहले मेरे ...

8 शव्वाल, यौमे ग़म

8 शव्वाल इतिहास का ऐसा दर्दनाक दिन है जो हर बार अहले बैत अ.स. और उन के घराने से मोहब्बत रखने वाले के दिल को ज़ख़्मी कर देता है, और ऐसा हेना स्वभाविक ह ...

इमाम हुसैन अ.स. का इंक़ेलाब और नेलसन मंडेला

अफ़्रीक़ा को आज़ादी का सबक़ सिखाने वाले और नस्ली भेदभाव का ख़ात्मा करने वाले महान लीडर नेलसन मंडेला ने अपनी कामयाबी का सेहरा इमाम हुसैन अ.स. और कर्बला ...

क्या कुछ इंसानों को जानवरों जैसा कहना उनका अपमान नहीं

कुछ जानवर जानवर होकर इंसानों को सीख देते हैं जैसे कौआ, जिसने जनाबे आदम के बेटे और उनकी सारी नस्ल को मुर्दे के दफ़्न की सीख दी। कुछ नबियों की मदद करते ...

क्या अमल के बग़ैर ईमान का महत्व है

ईमान और नेक अमल का आपसी संबध सूई और धागे जैसा है, उसका प्रयोग तभी हो सकता है जब दोनों एक दूसरे के साथ हों, अगर सूई और धागा दोनों अक दूसरे से अलग हों त ...

कैसे इंसान के कुछ बुरे काम सभी अच्छे कामों को बर्बाद कर देते हैं

सच है कि कुछ गुनाह और पाप की एक चिंगारी अच्छे और नेक अमल के बाग़ को जला कर राख कर देते हैं, जैसा कि क़ुर्आन में सूरए बक़रा की आयत न. 217 में आया भी है ...

अम्र बिल मारूफ़ और नही अन मुन्कर का असर ना होने पर क्या करें

अगर एक बार में बात का असर और प्रभाव नहीं हो रहा तो अलग अलग तरह से समझा कर बात कही जाए, क्योंकि भारी भरकम लकड़ी को कुल्हाड़ी के एक वार से नहीं काटा जा ...

हमारी दुआ क्यों क़बूल नहीं होती जब कि अल्लाह ने क़बूल करने का वादा किया है

अल्लाह या उसके नबी और इमामों ने जो दुआ के क़बूल होने की बात कही है उसका यह मतलब बिल्कुल नहीं है उसी समय क़बूल हो जाएगी। दुआ के क़बूल होने की एक शर्त प ...

ख़ुद की मारेफ़त और उसे हासिल करने का तरीक़ा

सबसे पहले इंसान अपने बारे में विचार करे, अपने अंदर पाई जाने वाली विशेषताओं, और सकारात्मक और नकारात्मक क्षमता पर ध्यान दे, दूसरा क़दम व्यक्तित्व निर्मा ...

पांच वह चीज़ें जो मरने वाले के काम आएंगी

मौत एक ऐसी हकीकत है जिससे किसी कोई भी इंकार नहीं कर सकता है लेकिन इस के बावजूद इंसान अपनी मौत से ग़ाफ़िल रहता है जबकि चाहिए तो ये कि इंसान इस दुनिया में ...

फॉलो अस
नवीनतम